कई बार सहनी पड़ती थी वर्दीवालों की गालियां, अब उसी वर्दी में नजर आएंगे ये किन्नर

किन्नर समाज में उत्साह की लहर

रायपुर, किन्नरों को अक्सर आपने घर या ट्रेन में तालियां बजाकर, पैसे मांगते हुए देखा होगा । उनकी मजबूरी भी है, क्योंकि किन्नरों के लिए अबतक समाज में स्वीकारिता नहीं आई थी । न ही उन्हें आम लोगों के जैसे रहने घूमने और रोजगार के मौके मिले थे । लिहाजा किन्नरों के सामने एकमात्र रास्ता यही बचता था । और उसी के जरिये वे अपनी जीविका चलाते रहे हैं । लेकिन अब ऐसा नहीं है । किन्नरों के लिए भी अब रोजगार और समानता के नए जरिये खुलने लगे हैं । ऐसा हम इसलिये कह रहे हैं, क्योंकि ट्रेनों में तालियां बजाकर पैसे मांगने वाले किन्नर अब आपकी सुरक्षा करने के लिए तैयार हैं । वे अब खाकी में नजर आने वाले हैं । वही खाकी जिसने न जाने कितनी बार उन्हें गालियां देकर भगाया होगा । लेकिन अब वक्त बदल रहा है ।

आरक्षक पद के लिए हुए 13 किन्नरों का चयन

दरअसल छत्तीसगढ़ पुलिस में 13 किन्नरों का चयन आरक्षक पद के लिए हुआ है । जिसमें  रायपुर से दीपिका यादव, श्री साहू, निशु क्षत्रिय, शिवन्या पटेल, नैना सोरी, सोनिया जंघेल, कृषि तांडी के साथ ही सबुरी यादव शामिल हैं । वहीं बिलासपुर से सुनील एवं रुचि यादव, धमतरी जिले से कोमल साहू, अंबिकापुर से अक्षरा, राजनांदगांव जिले से कामता,  नेहा एवं डोली का चयन हुआ है ।

किन्नर समाज में उत्साह की लहर

छत्तीसगढ़ पुलिस में इनके चयन के साथ ही किन्नर समाज में उत्साह की लहर हैं । उन्हें लगता है कि अब उनका वक्त बदलने वाला है, और वे भी अब समाज में सिर उठाकर जी सकेंगे । किन्नर समाज के लिए की गई इस पहल के बारे में आप क्या सोचते हैं अपने राय जरूर रखें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button