नईदिल्ली : भारत के शस्त्रागार में जल्द शामिल होगी सबसे ताकतवर मिसाइल अग्नि-5

नई दिल्ली : भारत पहले अंर्तमहाद्विपीय बैलिस्टिक मिसाइल के फर्स्ट बैच अग्नि-5को जत्थे में शामिल करने की तैयारी कर रहा है। अग्नि-5की खासियत है कि इस मिसाइल की जद सीधे चीन तक रहेगी। भारत की सैन्य शक्ति को इस मिसाइल के जरिए और ताकत मिलेगी। आधिकारिक सूत्रों ने बताया, मिसाइल सिस्टम की मारक क्षमता 5000 किमी. तक होगी और यह न्यूक्लियर हथियारों के साथ मार कर सकने में सक्षम है। मिसाइल बहुत महत्वपूर्ण मानी जानेवाली स्ट्रैटिजिक फोर्सेज कमांड (एसएफसी) में शामिल की जाएगी।

सूत्रों ने बताया कि एसएफसी को हैंडओवर किए जाने से पहले मिसाइल का कई बार सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है। रक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि दूर तक मार कर सकने में सक्षम मिसाइल की जद में चीन के सभी प्रमुख शहर पेईचिंग, शंघाई, ग्वांगझू और हॉन्ग कॉन्ग तक रहेंगे।

पिछले महीने ओडिशा के तट पर अग्नि-5मिसाइल का सफलतापूर्वर परीक्षण किया गया था। सूत्रों ने यह भी बताया कि आने वाले सप्ताह में फिर से प्री इंडक्शन टेस्ट किया जा सकता है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, रणनीतिक तौर पर यह एक बहुत महत्वपूर्ण मिसाइल है। हम इस महत्वपूर्ण रणनीतिक प्रॉजेक्ट के आखिरी चरण में हैं।

ये भी खबरें पढ़ें – नईदिल्ली : सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाक की हर जवाबी कार्रवाई के लिए भारतीय सेना तैयार थी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *