छत्तीसगढ़रायगढ़रायपुर

 रायगढ़ : स्ट्रांग रूम को किया गया सील

रायगढ़  : लोकसभा निर्वाचन 2019 अंतर्गत जिले के पांच विधानसभा क्षेत्र लैलूंगा, रायगढ़, सारंगढ़, खरसिया एवं धरमजयगढ़ में 23 अप्रैल का मतदान के पश्चात आज 24 अपै्रल को गढ़उमरिया के केआईटी कॉलेज के स्ट्रांग रूम में विधान सभावार वोटिंग मशीन को सील कर दिया गया। सामान्य प्रेक्षक पी.वेंकट रामी रेड्डी कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी यशवंत कुमार, पुलिस अधीक्षक राजेश अग्रवाल एवं प्रमुख राजनीतिक दल के मान्य प्रतिधिनियों की उपस्थिति में स्ट्रांग रूम सीलिंग कार्य किया गया।

रायपुर : स्ट्रांग रूम में तगड़ी सुरक्षा के साथ रखी गई, ईव्हीएम एवं वीवी पैट मशीनें

रायपुर : प्रदेश में तीसरे और अंतिम चरण में सात लोकसभा क्षेत्रों के लिए हुए मतदान के पश्चात संबंधित जिलों में स्थापित स्ट्रांग रूम में विधानसभावार तगड़ी सुरक्षा व्यवस्था के साथ ई.व्ही.एम. और वी.वी.पैट मशीनें रखी गईं हैं।

contesting verifiable candidates electronic federation association affidavits 95b47890 48d3 11e9 9b94 c272560e6ac5

सभी स्ट्रांग रूम को प्रेक्षक और प्रत्याशी अथवा उनके अधिकृत प्रतिनिधि की मौजूदगी में सील कर दिया गया है। भारत निर्वाचन आयोग के द्वारा निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार प्रदेश की ग्यारह सीटों सहित देश के सभी लोकसभा सीटों के लिए 23 मई को मतगणना होगी।

धमतरी : कलेक्टर ने किया सखी वन स्टॉप सेंटर का निरीक्षण

धमतरी :  कलेक्टर रजत बंसल ने आज शाम रूद्री रोड स्थित सखी वन स्टॉप सेंटर का निरीक्षण कर सेंटर के स्टाफ से रू-ब-रू हुए तथा वहां की कार्यप्रणाली की जानकारी ली। साथ ही सेंटर की विभिन्न पंजियों का निरीक्षण भी किया। इसके अलावा रत्नाबांधा रोड पर स्थित बालगृह का भी मुआयना कर वहां के प्रवेशित बच्चों से बातचीत की। आज शाम पांच बजे कलेक्टर बंसल सखी वन स्टॉप सेंटर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने वहां की सेंटर कोऑर्डिनेटर, विधिक सलाहकार तथा केस वर्कर से अब तक के प्रकरण तथा लंबित प्रकरणों की जानकारी ली। जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग ने बताया कि सखी सेंटर में अब तक कुल 460 प्रकरण पंजीबद्ध हैं, जिनमें से 66 प्रकरण महिला हेल्पलाइन नंबर 181 के माध्यम से आए हैं।

ये खबर भी पढ़ें – धमतरी: कृषि विभाग में बीज घोटाला

कलेक्टर ने पूछे जाने पर बताया गया कि अधिकतर मामले घरेलू विवाद से संबंधित होते हैं, जिनके निराकरण के लिए सेंटर की मध्यस्थता से काउंसिलिंग की जाती है एवं प्रकरणों के निराकरण के लिए परिजनों को यथासंभव समझाइश देने साथ ही कानूनी सलाह भी दी जाती है। कलेक्टर ने सेंटर में महिला उप निरीक्षक की तैनाती के लिए जिला कार्यक्रम अधिकारी को पत्र लिखने के लिए निर्देशित किया। साथ ही सखी सेंटर से न्यायालय में रेफर किए गए लंबित प्रकरणों की भी मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिए। उन्होंने सेंटर के विभिन्न कक्षों का निरीक्षण कर आवश्यक दिशानिर्देश दिए।
तदुपरांत कलेक्टर ने रत्नाबांधा रोड पर स्थित जिला बालगृह का भी आज शाम को निरीक्षण किया तथा वहां के मौजूदा स्टाफ से प्रकरणों की जानकारी व बच्चों को मुहैया कराई जाने वाले आवश्यक सुविधाओं की जानकारी ली। 50 बिस्तरयुक्त बालगृह में वर्तमान में 18 बच्चे प्रवेशित हैं। बालगृह को स्वयंसेवी संस्था के सहयोग से संचालित किया जा रहा है। इस दौरान कलेक्टर ने कैरम, लूडो व शतरंज खेल रहे बच्चों से रू-ब-रू होकर उनके लक्ष्य के बारे में पूछा, जिस पर बच्चों ने बड़े होकर अपने लक्ष्य के बारे में बेबाकी से बताया। इस अवसर पर उन्होंने कार्यालय सहित विभिन्न कक्षों तथा पंजियों का भी निरीक्षण किया तथा बाल संरक्षण अधिकारी सहित वहां के स्टाफ से उनके दायित्वों के बारे में भी क्रमश: जानकारी ली।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button