कोविड-19 के कारण अनाथ हुए बच्चों के आश्रय, आहार और शिक्षा के लिए बनेगी योजना- मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री द्वारा वीसी के माध्यम से जिलेवार की गई कोविड-19 की समीक्षा

 मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड-19 प्रभारी मंत्रियों, प्रभारी अधिकारियों, जिला प्रशासन एवं क्राइसिस मैनेजमेंट समूहों से चर्चा करते हुए कोविड-19 की समीक्षा की गई। कलेक्ट्रेट स्थित एनआईसी कक्ष में स्वास्थ्य मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी, सिलवानी विधायक श्री रामपाल सिंह, भोजपुर विधायक श्री सुरेन्द्र पटवा, जिला क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी के सदस्य डॉ जयप्रकाश किरार, कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव, पुलिस अधीक्षक श्रीमती मोनिका शुक्ला, अपर कलेक्टर श्री अनिल डामोर, सिविल सर्जन डॉ एके शर्मा तथा अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।  

 मुख्यमंत्री श्री चौहान को सिलवानी विधायक श्री रामपाल सिंह द्वारा जिले में कोरोना संक्रमण की स्थिति, कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर को रोकने जिले में की जा रही व्यवस्थाओं के संबंध में अवगत कराया गया। विधायक श्री सिंह ने बताया कि जिला अस्पताल सहित सिविल अस्पतालों और स्वास्थ्य केन्द्रों पर त्वरित और बेहतर उपचार हेतु स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि बेगमगंज में जनसहयोग से ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जिले में कोरोना संक्रमण रोकने किए जा रहे प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि जिले में कोरोना संक्रमण की स्थिति नियंत्रण में हैं। इसमें जिला, ब्लॉक, ग्राम और वार्ड स्तर की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की महत्वपूर्ण भूमिका है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोविड-19 प्रभारी मंत्रियों, प्रभारी अधिकारियों, जिला प्रशासन एवं क्राइसिस मैनेजमेंट समूहों को संबोधित करते हुए कहा कि मैं जिलों की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी को हृदय से धन्यवाद देता हूँ, आपने अद्भुत काम किया है।

कोरोना संक्रमण को हमने निचले स्तर से, पंचायत स्तर, ब्लॉक और जिलों की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी ने नियंत्रित किया है। हमारी क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी के काम की चर्चा देश भर में हुई है। जनता का, जनता के लिए और जनता के द्वारा मध्यप्रदेश मॉडल के रूप में जाना गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज हम अच्छी स्थिति में है, आज हमारा पाजि़टिविटी रेट 0.35% है, जो कि शायद देश में सबसे कम है। यह आपके परिश्रम से संभव हो पाया है।

ये आपकी ही मेहनत है, आपने सेवा का उत्तम उदाहरण प्रस्तुत किया है। मैं आपके इस परिश्रम को प्रणाम करता हूँ, धन्यवाद देता हूँ। उन्होंने कहा कि क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी का काम अभी खतम नहीं हुआ है। ये ढांचा लगातार काम करेगा। अभी हमे सावधान रहना है, असावधान नहीं होना है, इंग्लैंड जैसे देश में लॉक डाउन खुलने के बाद फिर संक्रमण बढ़ गया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी तैयारी है कि तीसरी लहर या तो आने ही नहीं देना है या आए तो उसकी तीव्रता कम करनी है। सघन टेस्टिंग जारी रहनी चाहिए, इसमे कोई कमी न आए। जो पाजि़टिव मिलें उनकी कान्टैक्ट ट्रेसिंग करनी जिससे संक्रमण को बढ़ने से रोका जा सके। जो पाजि़टिव मिलें उनको आइसोलेट करना है, कोविड केयर सेंटर में ले जाना है। इसके साथ किल कोरोना अभियान लगातार जारी रहे। कोविड अनुरूप व्यवहार करना है, इसका रामबाण है मास्क लगाना।

प्रधानमंत्री जी ने कहा है दो गज की दूरी और हाथ साफ करते रहें। दुकान धंधे के लिए क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी नियम बनाए, कैसे काम धंधा चले, रोजगार चले, व्यवसाय चले। ये हम सबकी जिम्मेदारी है। इन सब के मूल में है कोरोना के संक्रमण को रोकना, इसे बढ़ने नहीं देना और दुनिया भी चलाना। हम लॉक कर के नहीं रह सकते। क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी मास्क, दूरी और कोविड अनुरूप व्यवहार का पालन कराए।

 मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि टीकाकरण का काम प्रधानमंत्री जी ने अपने हाथ में लिया उसके लिए मैं प्रधानमंत्री जी का धन्यवाद देता हूँ। आप तय कीजिए कैसे ज्यादा से ज्यादा टीकाकरण हो सकते, किसे प्राथमिकता मिले टीकाकारण में। क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी अपने जिलों में नए प्रयास नए तरीकों के बारे में सोचिए कि कैसे टीकाकरण के लिए ज्यादा से ज्यादा जागरूकता फैले।

लोकगीत, पोस्टर, होर्डिंग, वॉयस मैसेज, क्षेत्र भ्रमण और अन्य क्या तरीके हो सकतें है टीकाकरण पर जागरूकता के लिए क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी इनके बारे में विचार करें। मैं देख रहा हूँ कई जगह जहां अन्लाक हुआ है वहाँ भीड़ बढ़ रही है, इससे फिर खतरा बढ़ सकता है। उन्होंने कहा कि जितनी योजनाएं हमने कोविड काल में बनाई हैं, जैसे कोविड बाल सेवा योजना, अनुकंपा नियुक्ति योजना, विशेष अनुग्रह योजना और कोविड उपचार योजना इन सब का प्रभावी क्रियान्वयन हो, कोई भी जरूरतमंद न छूटे।

योग से निरोग अभियान चलाया है हमने, अपने क्षेत्र में हम योग को रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का, स्वस्थ जीवन का अंग बनाने का अभियान गाँव गाँव चला सकते हैं। 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस है। हर गाँव में स्वास्थ्य के प्रति जागरूक एक महिला और एक पुरुष को हम ट्रेनिंग देकर, हर तरह की स्वास्थ्य और बीमारियों से जुड़ी चीजों पर आम जन को जागरूक कर सकते हैं। ऐसे ही ब्लॉक स्तर पर कर सकते हैं। हमें नए प्रयास कर के व्यवस्थाएं बनानी है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा कोविड प्रभारी मंत्रियों, अधिकारियों तथा जिलों की क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप से प्राप्त सुझाव पर चर्चा करते हुए कहा कि शादी-निकाह में वर तथा वधु पक्ष से 20-20 लोगों के शामिल होने पर विचार-विमर्श किया जाएगा। इसके अतिरिक्त कोविड-19 के कारण अनाथ हुए बच्चों के आश्रय, आहार और शिक्षा हेतु प्रदेश में शीघ्र योजना बनाई जाएगी।  
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button