छत्तीसगढ़ ज्वेलर्स वारदात, 5 आरोपी गिरफ्तार, टीम को मिलेगा 70 हजार का इनाम

रायपुर

राजधानी के छत्तीसगढ़ ज्वेलर्स में 10 दिन पहले हुए चोरी मामले में पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है. आरोपी चोरों ने पहले पुराने क्राइम ब्रांच जाकर उसकी रेकी की थी, फिर घटना को अंजाम दिया था. मामले का खुलासा करते हुए आईजी डॉ आनन्द छाबड़ा ने बताया कि हमारे टीम द्वारा ओडिशा के बलांगीर से कारोबारी समेत 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है. इसमें दो आरोपी रायपुर के ही है जिनके सहारे ओडिशा के दो आरोपियों ने मिलकर इस वारदात को अंजाम दिया था. उन्होंने बताया कि चोरी की गई ज्वेलर्स में 13 सौ ग्राम सोने के जेवर, 43 सौ ग्राम चांदी के जेवर और साढ़े 6 लाख रूपए नगद बरामद किए गए हैं. सफलता के बाद टीम को इनाम भी दिया जाएगा.

आईजी ने मामले की खुलासा करते हुए आगे बताया कि चोरी के ज्वेलर्स एक सराफा कारोबारी ने खरादी था. पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार किया है. इस चोरी की वारदात को चार लोगों ने ही मिलकर अंजाम दिया था. उन्होंने आगे बताया कि ज्वेलर्स के संचालक ने अपने सामानों की पहचान कर लिया है. मास्टरमाइंड आरोपी लक्ष्मण छुरा और सुनील सोना दोनों शातिर चोर है, जो पहले भी रायपुर में नकबजनी के कई मामलों में अलग अलग थानों में जेल जा चुके है. सभी गिरफ्तार आरोपियों ने सागर नायक, लक्ष्मण छुरा, मुच्ची, सुनील सोना और एक अपचारी बालक शामिल है. आरोपियों ने ज्वेलर्स में सुरक्षा कम होना देखकर वारदात को अंजाम दिया.

आगे बताया कि घटना के बाद सीएसपी पुरानी बस्ती के साथ टीम बनाकर काम पर लगाया गया था. सीसीटीवी फुटेज का आंकलन किया गया और मठपुरैना के सीसीटीवी की तरफ घटना के एक अपचारी बालक फुटेज में दिखाई दिया था. जिसके मद्देनजर पुलिस पार्टी बलांगीर से रवाना की गई. तलाशी के दौरान देखा गया कि आरोपियों कई जगह बदलनने की कोशिश की, लेकिन रविवार दोपहर तीन बजे आरोपियों दबोच लिया गया.

आईजी ने बताया कि आरोपियों से कुछ और चोरी के साक्ष्य मिलने की उम्मीद है. उस सभी को पूछताछ के लिए रिमांड में लिया जाएगा. इस मामले की जांच टीम में पुरानी बस्ती सीएसपी, डीएसपी अभिषेक माहेश्वरी और कुछ सियाही थे. मामले का खुलासा करने वाली टीम को डीजीपी की तरफ से 50 हजार, आईजी द्वारा 15 हजार और एसपी द्वारा 5 हजार का इनाम दिया जाएगा.

उन्होंने बताया कि चोरी की घटना के बाद आरोपी बस से सवार होकर महासमुंद होते हुए भागे थे. आरोपी इतने चलाक थे कि उन्होंने चोरी से पहले पुराना क्राइम ब्रांच जाकर वहां रेकी की थी, फिर उसके बाद घटना को अंजाम दिया था. आरोपियों को पता था कि क्राइम ब्रांच भांग हो चुका है उसके बावजूद उन्होंने रेकी करने के बाद घटना को अंजाम दिया. वहीं खुलासे के बाद छत्तीसगढ़ ज्वेलर्स के मालिक ने पुलिस का आभार जताया है.

यह पूरा मामला रायपुर के टिकरापारा थाना के सिद्धार्थ चौक के पास 2 फरवरी को चोरों ने 20 साल पुराने छत्तीसगढ़ ज्वेलर्स में बड़ी चोरी की घटना को अंजाम दिया था. वारदात के बाद पुलिस की रात गश्त पर भी सवाल उठ रहे थे. जिसके बाद पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच में तेजी लाई और इस चोर गिरोह के सदस्यों को धर दबोचा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *