विश्व पर्यावरण दिवस पर मुख्यमंत्री चौहान का सम्बोधन

पौध-रोपण से धरती, पर्यावरण और विश्वकल्याण होगा, मानवता की सेवा के लिए अंकुर पौध रोपण अभियान को सार्थक करें, पौध-रोपण से नदियों का सुरक्षा तंत्र जीवित होगा, अंकुर अभियान के विजयी प्रतिस्पर्धी प्राणवायु अवार्ड से सम्मानित होगें

मुख्यमंत्री चौहान विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर प्रदेशव्यापी अंकुर वृक्षारोपण अभियान का शुभारंभ करते हुए कहा की पौध-रोपण से धरती के कल्याण के साथ-साथ पर्यावरण और विश्व का भी कल्याण होगा। उन्होनें जनमानस का आव्हान करते हुए कहा कि मानवता की सेवा के लिए अंकुर पौध-रोपण अभियान को सार्थक करें।

पौध-रोपण से नदियों का सुरक्षा तंत्र जीवित होगा। अंकुर अभियान के विजयी प्रतिस्पर्धी प्राणवायु अवार्ड से सम्मानित होगें। कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह एवं अन्य अधिकारीगण तथा सेवाभावी संगठन के लोग एनआईसी कक्ष कलेक्ट्रेट छतरपुर से वर्चुअली कार्यक्रम में सम्मिलित हुए।
चौहान ने भोपाल स्थित निवास से वर्चुअली कार्यक्रम के जरीए प्रदेश के लोगों से रुवरु हुए।

इस कार्यक्रम में किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल उपस्थित थे। नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा एवं पर्यावरण मंत्री हरदीप सिंह डंग ने कार्यक्रम में वर्चुअली मंदसौर से सहभागिता की। मुख्यमंत्री चौहान ने 5 जिलों के अंकुर अभियान के जिला नोडल अधिकारियों से वी.सी. द्वारा संवाद किया। कार्यक्रम में हरदा में वृक्षारोपण गतिविधियों का फिल्म द्वारा प्रस्तुतीकरण किया गया। अपर मुख्य सचिव मलय श्रीवास्तव ने अंकुर कार्यक्रम के संबंध में जानकारी दी।


जन्म-दिवस और विवाह वर्षगाँठ जैसे मौकों पर करें वृक्षारोपण
मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेशवासियों से पर्यावरण बचाने में सहयोग की अपील की। उन्होंने कहा कि सभी प्रदेशवासियों को साल में एक बार पेड़ अवश्य लगाना चाहिए, क्योंकि पौधा रोपना जीवन रोपने के समान है। पेड़ ही जीवित ऑक्सीजन प्लांट है। पेड़ हमें जीवन देते हैं, एक बड़ा पेड़ कई पक्षियों, जीव-जंतुओं को आश्रय प्रदान करता है।

प्रत्येक पेड़ की पर्यावरण संतुलन बनाए रखने में भूमिका है। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेशवासियों से हर खुशी के मौके, जन्म-दिन, विवाह वर्षगाँठ और माता-पिता व अपने प्रिय व्यक्तियों की पुण्य-तिथि पर उनकी याद में एक पौधा लगाने की अपील की।


अंकुर कार्यक्रम के प्रतिभागियों को प्राणवायु अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा
मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जन-सहभागिता से वृक्षारोपण को प्रोत्साहित करने के लिए अंकुर कार्यक्रम आरंभ किया गया है। बुद्ध पूर्णिमा 26 मई को इसके लिए वायुदूत एप लाँच किया गया है। इस कार्यक्रम में अब तक 15 हजार से अधिक प्रतिभागियों द्वारा रजिस्ट्रेशन कराया गया है। लगभग 2,500 से अधिक प्रतिभागियों द्वारा वृक्षारोपण कर एप पर उसके फोटो अपलोड किए गए हैं।

जो पेड़ लगाएंगे उन्हें वृक्ष वीर और वृक्ष वीरांगना की संज्ञा दी जाएगी। इनमें से चयनित प्रतिभागियों को प्राणवायु अवार्ड से सम्मानित भी किया जाएगा।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि यदि हमें धरती बचानी है और धरती को आने वाली पीढ़ियों के रहने लायक रखना है तो पर्यावरण बचाना आवश्यक है। इसके लिए पेड़ लगाना, नदियों को बचाना आवश्यक है।


वृक्षारोपण से 400 एकड़ क्षेत्र में हुआ घना वन विकसित
कार्यक्रम में हरदा जिले में रूपारेल नदी के किनारे गौरी शंकर मुकाती की पहल पर हुए वृक्षारोपण पर लघु फिल्म का प्रदर्शन भी किया गया। मुकाती 1990 से वृक्षारोपण के लिए कार्य कर रहे हैं। उनके प्रयासों से रूपारेल नदी के आसपास लगभग 400 एकड़ क्षेत्र में घना वन विकसित हुआ है।


पौधा लगाने पर ही मिलेगी बिल्डिंग परमिशन : मुख्यमंत्री चौहान
अब बिल्डिंग परमिशन इसी शर्त पर दी जाएगी कि मकान बनाने वाला व्यक्ति एक पेड़ अवश्य लगाएगा। नगर निगम हो, नगर पालिका, नगर पंचायत अर्थात जिस भी स्तर का नगरीय निकाय हो बिल्डिंग परमिशन के लिए पौधा लगाने की शर्त अनिवार्य होगी। घर पर जगह न होने की स्थिति में पार्क या सार्वजनिक स्थल पर पौधा लगाना और उसकी सुरक्षा करना आवश्यक होगा।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गाँवों में भी ग्राम पंचायतों की यह जिम्मेदारी होगी कि जो भी मकान बने, उसमें एक पेड़ अवश्य लगे। यह शर्त प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत बनने वाले आवासों पर भी लागू रहेगी। घरों के अलावा स्कूल, पंचायत भवन, खेत आदि में पेड़ लगाए जाएंगे। सरकारी भवनों और कार्यालयों के लिए भी यह शर्त रहेगी।

मल्टीस्टोरी बिल्डिंग में जितने फ्लेट बनेंगे, उतने पेड़ बिल्डर को लगाने होंगे। सभी शासकीय, गैर-शासकीय भवनों के निर्माण में पेड़ लगाने की शर्त जोड़ी जाएगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि व्यक्ति स्व-प्रेरणा से भी पेड़ लगाएंगे, क्योंकि पर्यावरण सुधार हमारे लिए नारा नहीं मंत्र है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button