Chhattisgarh: हॉस्पिटल पहुंचने से पहले ही दम तोड़ रहे हैं कोरोना के मरीज, स्थिति भयावह

रायपुर, छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh)में अब कोरोना का कहर अपने चरम पर पहुंच चुका है. हालांकि ऐसा कहना भी फिलहाल जल्दबाजी ही लगती है. क्योंकि गुजरते वक्त के साथ कोरोना वायरस (Corona virus)अपनी तीव्रता बढ़ा रहा है. लेकिन फिलहाल जो हालात हैं, वह भी कम भयावह नहीं हैं.

छत्तीसगढ़ सरकार (Chhattisgarh Government) ने होम आईसोलेशन की व्यवस्था की है, यानि कोविड मरीज चाहे तो घर पर रहकर इलाज करा सकता है. लेकिन हालात यह है कि होम आइसोलेशन में रह रहे ज्यादातर मरीजों को स्वास्थ्य विभाग की ओर से किसी भी तरह की मदद नहीं मिल रही है. हालांकि कोरोना पॉजिटिव (Corona positive) आने के बाद मरीजों से पूछा जरूर जाता है कि वह अस्पताल में भर्ती होने चाहेंगे या होम आईसोलेशन में रहेंगे.

ये भी पढ़ें  – AIIMS specialist का दावा – फेफड़े ही नहीं शरीर के पूरे अंगों को प्रभावित कर सकता है कोरोना वायरस

जाहिर तौर पर ज्यादातर लोग घर में रहना ही पसंद करते हैं. क्योंकि जैसी खबरें सरकारी अस्पतालों को लेकर आ रही हैं, उससे लोग काफी डरे हुए हैं. लिहाजा ज्यादातर लोग अस्पताल मे भर्ती होने की जगह घर पर ही रहना पसंद कर रहे हैं.

social media पर वीडियो या मैसेज देख मरीज खुद कर रहे हैं अपना इलाज

अब घर में रह रहे मरीजों के सामने समस्या ये है कि वे अपना ट्रीटमेंट कैसे लें. क्योंकि इसके लिए न तो स्वास्थ्य विभाग के द्वारा उनसे संपर्क किया जा रहा है. न ही वे खुद इसके बारे में ज्यादा जानकारी रखते हैं. लिहाजा सोशल मीडिया (social media)पर चल रहे वीडियो या मैसेज देखकर बहुत से लोग अपना इलाज करने की कोशिश में लगे हुए हैं.

ज्यादातर मरीज घर पर ही हो रहे हैं ठीक

वैसे छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में जितनी तादात में मरीज मिल रहे हैं. उनमें से ज्यादातर मरीज अपने घर पर रहकर ही ठीक हो रहे हैं. लेकिन मरीजों की बढ़ रही संख्या की वजह से मौत का आंकड़ा भी हर दिन बढ़ता जा रहा है. हालात यह हो चले हैं कि, होम आईसोलेशन में रह रहे कई मरीज अस्पताल पहुंचने से पहले ही दम तोड़ देते हैं.

7 सितंबर को 5 लोगों की अस्पताल लाने से पहले मौत

अगर हम बात सिर्फ 7 सितंबर 2020 की ही करें तो छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में कुल 2017 मामले सामने आए. इनमें से 5 मरीजों ने अस्पताल आने से पहले दम तोड़ दिया. इनमें से ज्यातर मरीज राजधानी रायपुर (Capital Raipur) के है. लिहाजा इस बीमारी की गंभीरता को समझा जा सकता है. क्योंकि छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की राजधानी रायपुर (Capital Raipur) से ही पूरी प्रदेश की सेहत को सुधारने का काम चल रहा है. और जब राजधानी ही बुरी तरह से संक्रमित हो तो प्रदेश की सेहत कैसे सुधर पाएगी.

corona in chhattisgarh

corona-virus-in-chhattisgarh-2

 

corona Update और National News के साथ Chhattisgarh और Madhyapradesh से जुड़ी खबरें पढ़े

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *