छत्तीसगढ़बड़ी खबरेंरायपुर

ईडी की रडार में हैं सीएम भूपेश बघेल ? गिरफ्तार आईएएस की पत्नी के लिखे लेटर का एक-एक शब्द पढ़ें

ईडी पर लगाए हैं गंभीर आरोप

छत्तीसगढ़ में ईडी की कार्रवाई पर सियासत बेहद गरम हैं, ईडी ने कई जगह दबिश देकर गिरफ्तारियां भी की हैं, इनमें आईएएस समीर विश्नोई भी शामिल हैं. जिनकी पत्नी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखकर जान का खतरा बताया है साथ ही उन्होने सुरक्षा देने की मांग भी की है।

आईएएस की पत्नी प्रिती विश्नोई ने एक लंबा चौड़ा लेटर सीएम को लिखा है, जिसमें उन्होने कई गंभीर बातें भी लिखीं हैं. फोर्थ आई न्यूज आपको इसी लेटर के बारे में बताने जा रहा है । जो गिरफ्तार आईएएस की पत्नी ने लिखा है ठीक वैसा ही आपको पढ़ाने जा रहा है, आप भी इसे और तय करें कि आपको ईडी की कार्रवाई दुर्भावना से ग्रस्त लगती है या फिर जांच एजेंसियों के रुटीन का हिस्सा ।

WhatsApp Image 2022 10 13 at 16.45.25 WhatsApp Image 2022 10 13 at 16.45.26

पढ़िये पूरा लेटर जो आईएएस समीर विश्नोई की पत्नी प्रिति विश्नोई ने सीएम को लिखा है 

मैं श्रीमती प्रीति विश्नोई, उम्र- 40 वर्ष, पति- श्री समीर विश्नोई, निवासी- आफिसर्स कालोनी, देवेन्द्र नगर, रायपुर छ.ग. की हूँ, जो कि निम्नलिखित शिकायत आवेदन पत्र प्रस्तुत करती हूँ :

मैं उपरोक्त पते पर रहती हूँ। मेरे पति श्री समीर विश्नोई आई.ए.एस. आफिसर हैं, जो कि वर्तमान में रायपुर छ.ग. में पदस्थ हैं। दिनांक 11/10/2022 को लगभग सुबह 5.30 से 6.00 बजे के मध्य हमारे घर की डोर बेल बजी। जिस पर मैंने दरवाजा खोला तब मैंने पाया कि लगभग 15-20 लोग हमारे घर आये हुये थे तथा उन लोगों ने अचानक मेरी बिना अनुमति एवं सहमति के हमारे घर में प्रवेश कर लिया। तब मैंने उन लोगों से पूछा कि आप लोग कौन हैं, तब उन लोगों द्वारा मुझे कोई जवाब नहीं दिया गया तथा वे लोग हमारे घर के सामान को उलट-पुलट करने लगे, उसी समय मेरे पति भी वहाँ आ गये। तब मेरे पति ने उपरोक्त लोगों से पूछा कि आप लोग ये क्या कर रहे हैं, तब उपरोक्त लोगों में से एक व्यक्ति ने कहा कि, मेरा नाम ऋषि वर्मा है तथा हम लोग ई.डी. विभाग से आये हुये हैं।

तब मेरे पति और मैंने उपरोक्त व्यक्ति से आग्रह किया कि आप किस लिये हमारे यहाँ आये हैं, इस बात की हमें जानकारी दें। तब उपरोक्त व्यक्ति एवं उसके सहयोगियों द्वारा मेरे पति एवं मेरे साथ काफी बदतमिजी की गयी तथा उनके द्वारा मुझे एवं मेरे पति से हमारा मोबाईल फोन ले लिया गया। तब हम लोगों ने ऋषि वर्मा एवं उसके सहयोगियों से आग्रह किया कि आप हमें विधिवत तरीके से ई.सी.आई.आर. एवं शेड्यूल एफ.आई.आर. की कापी दें। जिस पर ऋषि वर्मा एवं उसके सहयोगियों ने कहा कि हम इसको देने के लिये बाध्य नहीं है।

इसके बाद ऋषि वर्मा एवं उसके सहयोगियों द्वारा मुझसे एवं मेरे पति से हमारे घर में दबाव डालकर कई दस्तावेजों पर हस्ताक्षर लिये गये। इसके पश्चात अगले दिन 12/10/2022 को ऋषि वर्मा एवं उनके साथियों द्वारा मुझे और मेरे पति को अपने वाहन में ले जाया जाने लगा। इस पर मैंने अलि सहयोगियों से आग्रह किया, कि हमारे घर में दो छोटे-छोटे बच्चे हैं, उनकी देखरेख के लिये कोई नहीं है। इस पर भी ऋषि वर्मा एवं उसके सहयोगियों ने बात नहीं सुनी तथा उनके द्वारा हमें जबरन तरीके से पचपेढीनाका स्थित आफिस में ले जाया गया।

जहाँ पर जाने के पश्चात उपरोक्त व्यक्तियों द्वारा मझे एवं मेरे पति पर जबरन दबाव डालते हुये कहा गया, कि आप लोगों को हम जो बात बोल रहे हैं, वैसी ही बात आपको जे.डी. सर और आहूजा सर को बयान देकर बतानी होगी तथा ऋषि वर्मा एवं उसके सहयोगियों द्वारा हम पर जबरन तरीके से दबाव डालकर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री महोदय, नेता सूर्यकांत तिवारी एवं अधिकारी सौम्या चौरसिया का नाम लेने के लिये कहा जा रहा था।

जिस पर मैंने एवं मेरे पति ने उपरोक्त व्यक्तियों को उनके दबाव अनुसार बताये जा रहे बयान देने की बात से इंकार किया। तब ऋषि वर्मा एवं उसके सहयोगियों द्वारा मुझसे एवं मेरे पति से कहा गया, कि यदि आप लोग हमारे बताये अनुसार बयान नहीं दोगे, तो तुम लोगों और तुम्हारे परिवारवालों को जिंदगी भर के लिये जेल में सड़ा देंगे। जिस पर मैं और मेरे पति अत्यंत भयभीत हो गये।

इसी बीच वहाँ हेमन्त नाम के अधिकारी वहाँ आये जिन्होंने बताया कि वे ई.डी. के डिप्टी डायरेक्टर हैं तथा इसके बाद हेमन्त जी एवं उसके सहयोगियों द्वारा मेरे पति समीर विश्नोई को जबरन बयान देने की बात का दबाव डालकर उनका कैरियर बर्बाद करने की धमकी दी गयी। इसके बाद ऋषि वर्मा एवं उसके सहयोगियों द्वारा मुझे एवं मेरे पति को धमकी दी गयी कि यदि आप लोग हमारे द्वारा दिये गये दस्तावेजों में हस्ताक्षर नहीं किये तो हम लोग आपके परिवार में जितने भी लोग हैं सबको झूठे मामले में फंसा देंगे।

जिस पर मैं और मेरे पति अत्यंत भयभीत हो गये तथा इसके पश्चात ऋषि वर्मा एवं उसके सहयोगियों द्वारा मुझसे एवं मेरे पति से कई दस्तावेजों में धमकी देकर जबरन हस्ताक्षर करवाये गये। उपरोक्त समय डिप्टी डायरेक्टर हेमन्त जी ने भी मुझे एवं मेरे पति को धमकी दी कि आप लोग हमारे बताये अनुसार कथन दे दें तथा सरकारी गवाह बन जाये नहीं तो हम लोग आपको जेल में सड़ा देंगे। जिस पर हम लोगों ने इंकार किया। इस बीच ऋषि वर्मा एवं उसके सहयोगियों द्वारा मुझे एवं मेरे पति को भूखा-प्यासा रखा गया।

उपरोक्त समय मैंने एवं मेरे पति ने ऋषि वर्मा एवं उसके सहयोगियों से निवेदन किया, कि मेरे पति लीवर सिरोसिस, माईग्रेन एवं बी.पी. की बीमारी से ग्रस्त हैं, जिन्हें उपरोक्त बीमारी के संबंध में दवाईयां लेनी होती है, इसीलिये उन्हें दवाईयां दी जाये, किन्तु ऐसा नहीं किया गया ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button