रायपुर : चुनाव को लेकर भारत निर्वाचन आयोग द्वारा पूरी तैयारी कर ली गई है-उमेश सिन्हा

रायपुर : विधानसभा चुनाव को लेकर भारत निर्वाचन आयोग ने पूरी तैयारी कर ली है। छत्तीसगढ़ राज्य में चुनाव के लिए दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए। छग में मतदाता का प्रतिशत बढ़ाने और युवाओ को मतदान के लिए जागरूक करने की दिशा में पहल करते हुए कॉलेजों में भी शिविर लगाया जाएगा ताकि ज्यादा से ज्यादा युवा अपने मतदाधिकारी का प्रयोग कर सके। प्रदेश के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सुरक्षा पर विशेष जोर दिया गया है। उक्त बातें भारत निर्वाचन आयोग नई दिल्ली के वरिष्ठ उप निर्वाचन आयुक्त उमेश सिन्हा ने बुधवार को राजधानी रायपुर के एक निजी होटल में आयोजित प्रेसवार्ता में कहीं।

चुनाव के लिए दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए ?

श्री सिन्हा छत्तीसगढ़ राज्य में विधानसभा चुनाव की तैयारियों की समीक्षा करने पहुंचे हुए है। आज सुबह श्री सिन्हा की अध्यक्षता में यहां प्रशासनिक अधिकारियों की उच्च स्तरीय बैठक हुई। जिसमें श्री सिन्हा ने छत्तीसगढ़ विधानसभा के आगामी आम चुनाव के लिए चल रही प्रशासनिक तैयारियों की समीक्षा की। इस बैठक में छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू सहित राज्य के सभी राजस्व संभागों के कमिश्नर, सभी रेंज पुलिस महानिरीक्षक, सभी जिलों के कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए। भारत निर्वाचन आयोग नई दिल्ली के महानिदेशक दिलीप शर्मा और प्रमुख सचिव एन.एन. बुटोलिया भी बैठक में उपस्थित थे।

प्रशासनिक अधिकारियों की उच्च स्तरीय बैठक हुई ?

बैठक के बाद शाम को पत्रकारों को जानकारी देते हुए भारत निर्वाचन आयोग के उप निर्वाचन आयुक्त उमेश सिन्हा ने छत्तीसगढ़ में चुनावों को लेकर व्यापक स्तर पर तैयारियां की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में कुल 27 जिले हैं जिसमें 150 तहसील में 23632 मतदान केंद्र है। यहां की वर्तमान आबादी 2,95, 38,783 है जिसमें कुल 1,81,79,435 मतदाता है। उन्होंने कहा कि छग के नक्सल प्रभावित जिलों में चुनाव के लिए विशेष प्रकार की तैयारी की जा रही है जिसे लेकर चुनाव आयोग द्वारा रणनीति बनाई जा रही है ताकि चुनाव में किसी प्रकार की परेशानी न हो। उन्होंने कहा कि देखा जाता रहा है कि नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में चुनाव चुनौतीपूर्ण होता है।

वर्तमान आबादी 2,95, 38,783 है जिसमें कुल 1,81,79,435 मतदाता है ?

इसी वजह से बस्तर को लेकर विशेष ध्यान दिया गया है। श्री सिन्हा ने बताया कि चुनाव से पहले आयोग द्वारा परीक्षा ली गई। इस परीक्षा में जो फेल हो गए हैं उन्हें फिर से चुनाव के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि चुनाव बेहतर हो सके। उन्होंने बताया कि युवा, महिला और दिव्यांगों मतदाताओ का प्रतिशत बढ़े इसे लेकर चुनाव आयोग द्वारा नीति बनाई है। इस नीति क तहत कॉलेजों में भी निर्वाचन आयोग द्वारा शिविर लगाकर मतदाताओं को जोडऩे का काम किया जाएगा।

चुनाव के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि चुनाव बेहतर हो सके ?

साथ ही बूथ स्तर और पोलिंग मैं भी जोर लगाकर काम किया जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि निर्वाचन आयोग द्वारा डोर टू डोर जाकर लोगों को चुनाव के बारे में पूछा जा रहा है और जिनका 18 साल की उम्र हो चुका है उन्हें मतदान करने का अधिकार मिल सके इसलिए चुनाव में नाम जोडऩे के लिए कहा जा रहा है। इसके लिए ऑनलाइन नाम जोडऩे की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *