छत्तीसगढ़बड़ी खबरेंरायपुर

अब अपनी संपत्ति पर बुरे फंसे रमन सिंह,आज जानिए कितनी बताई है डॉ रमन ने अपनी संपत्ति

नमस्कार दोस्तों, फोर्थ आई न्यूज़ में आप सभी का एक बार फिर स्वागत है, दोस्तों बीते दिनों हमने आपको हमारे प्रदेश के टॉप 10 करोड़पति विधायकों पर एक स्पेशल रिपोर्ट दिखाई थी। जिसपर आप लोगों ने कमेंट करके हमसे कहा था कि हमने डॉ रमन सिंह का ज़िक्र क्यों नहीं किया ? दोस्तों दरअसल हम सही समय का इंतज़ार कर रहे थे और अब वो सही समय आ गया है। दरअसल, पूर्व सीएम डॉ रमन सिंह पर यह आरोप लगा है कि उन्होनें अपनी असल संपत्ति की जानकारी दस्तावेज़ों में छुपाई है। पूर्व सीएम पर यह आरोप कांग्रेस नेता विनोद तिवारी ने लगाया है। उनका आरोप है कि रमन सिंह ने चुनावी शपथ पत्र में अपनी संपत्ति को लेकर जो ब्यौरा दिया है वो गलत है। हलाकि रमन सिंह की संपत्ति कितनी है इसे लेकर उन्होनें स्पष्ट दावा नहीं किया है।

कांग्रेस नेता विनोद तिवारी ने इस सम्बन्ध में हाईकोर्ट में याचिका भी लगाईं है। जिसपर हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच ने मामले की सुनवाई के बाद 8 फरवरी को अंतिम सुनवाई की बात कही है। आज हम आपको डॉ रमन सिंह द्वारा साल 2018 के विधानसभा चुनाव में उनके द्वारा दिए गए एफिडेविट के आधार पर उनकी कुल सम्पत्ति बताने जा रहे हैं।

डॉ रमन सिंह हमारे प्रदेश में साल 2003 से लेकर साल 2018 तक मुख्यमंत्री रहे हैं। सीएम ने 2018 विधानसभा चुनाव के दौरान निर्वाचन आयोग को जो जानकारी दी है उसके मुताबिक उस समय उनके खुद के पास 34 लाख 59 हज़ार 130 रुपए का कॅश था। जबकि उनकी पत्नी वीणा सिंह के नाम पर 15 लाख 48 हज़ार 172 रुपए का कैश अमाउंट दर्ज है। निर्भरता यानी डिपेंडेंट अमाउंट 9 लाख 76 हज़ार 551 रुपए दिखाया गया है।

अलग-अलग बैंक खातों में डॉ रमन सिंह ने खुद के व्यक्तिगत खातों की जो जानकारी दी है। उसके मुताबिक उनके पूरे प्रदेश में अलग-अलग जगहों पर कुल 5 बैंक अकाउंट में खाते हैं। जिनमें 1 करोड़ 54 लाख 80 हज़ार 469 रुपए का पैसा कैश के रूप में जमा है। जबकि उनकी पत्नी के नाम पर कुल 50 लाख रुपए उनके बैंक खाते में जमा हैं।

पूर्व सीएम ने बांड्स की कीमत 1 लाख 29 हज़ार 040 रुपए दर्शाई है। 2017-18 के दरमियान उन्होनें 79 हज़ार 810 रुपए की एलआईसी पालिसी ले रखी थी। रमन सिंह ने अपने विभिन्न व्यापारों में निवेश के लिए 1 करोड़ 25 लाख 61 हज़ार 475 रुपए का व्यक्तिगत लोन भी ले रखा था। रमन सिंह ने अपने चुनावी हलफनामे में यह भी जानकारी दी कि उनके पास 2017-2018 में 1 करोड़ 43 लाख 57 हज़ार रुपए की ज्वेलरी घर पर और बैंक लॉकर्स में है। जिसमें 235 तोला सोना उनकी पत्नी वीणा सिंह के पास, रमन सिंह के पास 57 तोला सोना, वहीं 4 किलोग्राम रमन सिंह के पास तो उनकी पत्नी के नाम 18 K.G. के चंडी के आभूषण बताए गए हैं। रमन सिंह की पत्नी के नाम पर साढ़े सात कैरट की डायमंड ज्वेलरी भी बताई गई है।

इसके अलावा मोबाइल फोन, कंप्यूटर, लैपटॉप्स की कीमत डॉ रमन सिंह ने 1,77,892 रुपए बताई है। रमन सिंह के पास 41 हज़ार रुपए की पिस्तौल भी है। इस तरह से डॉ रमन सिंह ने अपनी चल सम्पतियों का जो ब्यौरा दिया है उसकी कुल कीमत 1 करोड़ 53 लाख 23 हज़ार 111 रुपए बताई है। जबकि उनकी पत्नी वीणा सिंह की चल सम्पत्तियों की कीमत 2करोड़ 12 लाख 75 हज़ार 046 रुपए बताई है। इसमें 65 लाख 36 हज़ार 079 रुपए का डिपेंडेंट अमाउंट जोड़ दिया जाए तो यह कुल 4 करोड़ 31 लाख 34 हज़ार 236 रुपए का होता है। डॉ रमन सिंह के नाम पर 45,00,000 रुपए की कृषि भूमि है। उनकी पत्नी के नाम पर 46,00,000 की कृषि भूमि है। दोनों पति-पत्नियों के पास कुल 2 करोड़ 07 लाख रुपए की कृषि भूमि है।

डॉ रमन सिंह ने अपने नाम पर 3 करोड़ 70 लाख रुपए का घर रायपुर में दर्शाया है वहीं उनकी मूलभूमि कवर्धा में 64 लाख रुपए की प्रॉपर्टी है इस तरह से डॉ रमन सिंह के नाम पर कुल 4 करोड़ 34 हज़ार रुपए की प्रॉपर्टी है। दोनों पति-पत्नियों की प्रॉपर्टी का कुल योग यदि जोड़ दिया जाए तो यह पेपर में 6 करोड़ 41 लाख रुपए दर्ज करवाई गई है। डॉ रमन सिंह ने अपने नाम पर मात्र 3,950 रुपए का लोन दर्शाया था। जो अब तक क्लियर भी हो चुका है।

तो यह वो जानकारी है जो प्रदेश के पूर्व सीएम डॉ रमन सिंह ने 2018 विधानसभा चुनाव के हलफनामे में दर्ज करते हुए दी थी। इसके मुताबिक कैश में उनके पास लगभग 10 करोड़ तो वहीं प्रॉपर्टी मिलाकर 10 करोड़ की संपत्ति है। मगर ताजुब इस बात का भी है कि सीएम के हिसाब से उनकी संपत्ति सिर्फ किसी विधायक की तरह ही मालूम पड़ती है। और अब वो सिर्फ राजनांदगांव से विधायक हैं बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी मगर मुख्यमंत्री नहीं हैं। ऐसे में क्या उनकी संपत्ति में इन 5 सालों में गिरावट आई होगी ? या फिर उनपर जो संपत्ति छुपाने के आरोप लग रहे हैं उन्हें आप सही मानते हैं ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button