ऑनलाइन क्लास में भी Private schools पूरी फीस की कर रहे हैं मांग

रायपुर, कोविड़ 19 महामारी में भी निजी स्कूलों (Private schools) की मनमानी चल रही है. दरअसल सरकार ने इस महामारी को देखते हुये प्रदेश के स्कूलों को बंद रख ऑनलाईन पढ़ाई करायी जा रही है। स्कूल प्रशासन द्वारा बच्चों को करीब 2 से 3 घंटे की ऑनलाईन क्लास (online classes) दी जा रही है इस वजह से बच्चों के परिजन परेशान है।

परिजनों से मिली जानकारी के अनुसार भिलाई क्षेत्र में रिसाली स्थित मैत्री निजी स्कूल ((Private school) विद्यानिकेतन स्कूल में पढऩे वाले बच्चों के परिजनों को स्कूल फीस जमा करने की सूचना दी गया है। वहीं परिजनों का कहना है की मैत्री विद्यानिकेतन स्कूल द्वारा पढ़ाई के नाम खानापूर्ति की जा रही है।

ऑनलाईन पढ़ाई के दौरान बच्चों को टीचर्स द्वारा भेजे गये सवाल के संबंध में सही जानकारी नही मिल पा रही है इसके चलते परिजनों को बच्चों को पढ़ाना पड रहा है या फिर ट्यूशन देना पड रहा है। ऑनलाईन क्लास (online classes) चालू होने से स्कूल प्रबंधन का इलेक्ट्रीसिटी बिल से लेकर स्कूल की साफ-सफाई एवं अन्य खर्चो में कटौती हुई है।

इसके बावजदू भी स्कूल द्वारा फीस में कोई ढिलाई नही दी गई है। व परिजनों से पूरा फीस मांगा जा रहा है। स्कूल प्रबंधन का कहना है कि जो फीस ले रहे है वह सिर्फ ट्यूशन फीस ही है। इस वजह से पालकों में नाराजगी है।
पालकों का कहना है कि ऑनलाईन पढ़ाई के संबंध में किसी भी बच्चे के परिजन से सलाह नही ली गई व जबरन पढ़ाई के नाम पर ऑनलाईन क्लास (online classes) बच्चों पर थोपा गया है।

आनलाईन क्लास के दौरान जिनके माता पिता पढ़े लिखे है वे तो बच्चें का होम वर्क करा दे रहे है नही तो उन्हें अलग से ट्यूश भेजना पड रहा है। फिर किस बात की स्कूल प्रबंधन पूरा फीस ले रहा है। स्कूलों की मनमानी व कोरोना काल में काम बंद होने के चलते कई पालक अपने बच्चों को निजी स्कूल (Private schools) से सरकारी स्कूल में एडमिशन दिला रहे है।

पालकों ने शासन-प्रशासन से मांग की है कि कोरोना महामारी के दौरान पूर्व के भांति उनका काम धंधा नही चल पा रहा है ऐसे स्थिति में स्कूल प्रबंधन को ट्यूशन फीस में कमी कर बच्चों के परिजनों को राहत दी जाये।

corona Update और National News के साथ Chhattisgarh और Madhyapradesh से जुड़ी खबरें पढ़े

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *