रायपुर के उत्तर विस के एक और दावेदार ‘लोकेश कावड़िया’

रायपुर:  चुनाव नजदीक आते ही भाजपा हो या कांग्रेस हर तरफ चुनाव लड़ने वाले दावेदारों की फौज खड़ी दिखाई दे रही है, हो भी क्यों न, आखिर पांच साल बाद ये मौका पार्टी के उन लोगों को मिलता है जो लगातार अपने-अपने क्षेत्र में मेहनत कर रहे हैं, लेकिन ये भी सच है, कि हर किसी को टिकट देना भी पार्टी के लिए संभव नहीं है, लिहाजा पार्टियों ने अपने स्तर से चयन की प्रक्रिया शुरू भी कर दी है, लेकिन हम यहां बात कर लेते हैं, रायपुर की उत्तर विधानसभा सीट के बारे में, जहां भाजपा की तरफ से टिकट पाने वाले दावेदारों की भीड़ है, इन्हीं में से एक हैं लोकेश कावड़िया ।

कौन हैं लोकेश कावड़िया ?

लोकेश कावड़िया मौजूदा वक्त में भाजपा के एनजीओ प्रकोष्ट के अध्यक्ष हैं, उनके मुताबिक वो लगातार प्रदेश के एनजीओ को उनकी पार्टी से जोड़ने के प्रयास में लगे हुए हैं, साथ ही कावड़िया साल 1994 में भाजपा के टिकट पर पार्षद का चुनाव लड़ चुके हैं, जिसमें उन्होने रिकॉर्ड मतों से जीत हासिल की थी, इसके बाद उन्हें रायपुर ननि में नेता प्रतिपक्ष का पद मिला जिसपर वे पांच साल तक काबिज रहे ।

ये खबर भी पढ़ें – रायपुर : जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ ने भाजपा को चुनावी वादा याद दिलाएंगी

झुग्गी झोपड़ी प्रकोष्ठ के भी रहे हैं अध्यक्ष

लोकेश कावड़िया झुग्गी झोपड़ी प्रकोष्ठ के अध्यक्ष भी रहे हैं, उनके मुताबिक उन्होने इस दौरान सभी जगह घूम-घूम कर झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले लोगों की समस्याओं के लिए संघर्ष किया और करीब एक लाख गरीब लोगों को पट्टे दिलाने का काम किया है ।

प्रदेश स्तर पर भी किया है काम

लोकेश कावड़िया छत्तीसगढ़ ही नहीं बल्कि संगठन के लिए प्रदेश के बाहर भी काम कर चुके हैं, वे बताते हैं कि हाल ही में उन्होने उड़िसा की कालाहांडी जिला पंचायत में भी पार्टी के लिए काम किया है, जहां भाजपा ने 36 में 33 सीटों पर जीत हासिल की और इतिहास बनाया ।

सामजिक क्षेत्र में भी लगातार सक्रिय

लोकेश कावड़िया बताते हैं कि वे आज से नहीं बल्कि करीब चालीस साल से सामाजिक सेवा में सक्रिय हैं और ये काम करने से उनके मन को बेहद सुकून मिलता है, उनके मुताबिक वे लोगों को स्वरोजगार उपलब्ध कराते हैं, जिसके जरिये वे करीब 40 हजार लोगों को रोजगार दे रहे हैं, सामाज सेवा के कार्यों में वे, सरकारी अस्पताल में नवजात शिशु के लिए एक फ्री कपड़ों की किट उलब्ध कराते हैं, जिससे नवजात शिशु को इंफेक्शन से बचाया जा सके, वहीं वे डायलिसिस के मरीजों के लिए भी काम करते हैं, और महज 100 से 400 रुपए में उनके द्वारा डायलिसिस करवाया जाता है, जबकि इसमें करीब 1500 रुपए का खर्च आता है, यही नहीं इसके अलावा उनकी संस्था आंखों का फ्री चैकअप करने के बाद गरीब मरीजों को फ्री में चश्मा भी उपलब्ध कराती हैं ।

ये खबर भी पढ़ें – रायपुर : चुनाव चिन्ह के आधार पर नहीं जीता जाता कोई चुनाव-रमन सिंह

रजिस्टर रखते हैं घर और ऑफिस में

लोकेश कावड़िया बताते हैं कि वे घर और ऑफिस में रहें या न रहें, लेकिन उनके घर पर हमेश एक रजिस्टर रखा होता है, और जो भी जरूरतमंद लोग उनके पास आते हैं उनकी समस्या वे रजिस्टर में दर्ज करवा लेते हैं, इसके बाद वे उनकी समस्याओं को दूर करने की प्रयास करते हैं ।

चुनाव लड़ने की है तमन्ना

लोकेश कावड़िया इस बार चुनावी मैदान में कूदने का मन भी बना चुके हैं, उनके मुताबिक पार्टी उन्हें आदेश करेगी तो वे कहीं से भी चुनाव लड़ सकते हैं, लेकिन चूंकि वे उत्तर विधानसभा क्षेत्र में रहते हैं, लिहाजा उन्हें यहां से पार्टी टिकट देती है, तो वे जरूर चुनाव लड़ेगे ।

वीडियो में देखें रायपुर ग्रामीण विस के दावेदार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *