भिलाई : रक्तदान को लेकर पहले थी गलत धारणा, अब आई जागरुकता – प्रेमप्रकाश पाण्डेय

भिलाई : रक्तदान को लेकर पहले गलत धारणा थी। हमारे समय में भी रक्तदान करने पर घर में डांट पड़ती थी। मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय ने अपने कॉलेज के समय का एक संस्मरण बताते हुए कहा कि एक हादसे में घायल युवक को बचाने के लिए रक्तदान किया था। इसकी जानकारी जब मां को दी तो उन्होंने डांटते हुए कहा कि एक एक बूंद खून बहुत मुश्किल से बनता है। जबकि पिताजी कुछ नहीं बोले। उस समय रक्तदान को लेकर जो गलत धारणा थी यह उसी का नतीजा था।

यह बातें रविवार को होटल अमित पार्क में आयोजित रक्तवीरों के सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि की आसंदी से छत्तीसगढ़ शासन के राजस्व एवं उच्च शिक्षा मंत्री प्रेम प्रकाश पाण्डेय ने कही।उल्लेखनीय है कि प्रदेश भर के रक्तवीरों का सम्मान करने छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन द्वारा सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि राजस्व एवं उच्च शिक्षा मंत्री प्रेम प्रकाश पाण्डेय एवं कार्यक्रम की अध्यक्षता शिक्षा विद व श्री गंगाजलि शिक्षण संस्थान के अध्यक्ष आईपी मिश्रा उपस्थित थे।

विशेष अतिथियों के रूप में न्यू प्रेस क्लब ऑफ भिलाई नगर अध्यक्ष टी सूर्याराव व श्रमजीवी पत्रकार कल्याण संघ के कार्यकारी अध्यक्ष बीडी निजामी शामिल हुए। कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन द्वारा 300 रक्तदाताओं तथा नेत्रदान करने वाले व्यक्तियों के परिजनों का सम्मान किया गया। कार्यक्रम के दौरान मुख्य अतिथि सहित उपस्थित अन्य अतिथियों ने इनका सम्मान प्रशस्ति प्रत्र एवं स्मृति चिन्ह देकर किया।

कार्यक्रम के दौरान छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन के प्रदेश अध्यक्ष विवेक कुमार साहू, महासचिव कीर्ति कुमार, उपाध्यक्ष विकास जायसवाल, कोषाध्यक्ष राजेश अग्रवाल, प्रदेश महिला संयोजक गीतू जोशी, प्रेमप्रकाश साहू, राज रात्रे, राणा मुखर्जी, प्रेम चंद, पोषण साहू, यमलेश्वर साहू, जय बंछोर, योगेश अग्रवाल, अविनाश किरन, लोकेश्वरी चंद्रवंशी, पवन गुप्ता, रवि देशमुख सहित बड़ी संख्या प्रदेश भर से आए रक्तवीर उपस्थित थे। कार्यक्रम के दौरान मंच संचालन सुमन कन्नौजिया ने किया।संगठन लगातार रक्तदान कर बचा रहा लोगोंं की जान

कार्यक्रम के दौरान अपने उद्बोधन में मंत्री प्रेम प्रकाश पाण्डेय ने रक्तदान के लिए बनाए गए संगठन छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन की सराहना की। इसके लिए फाउंडेशन के अध्यक्ष विवेक साहू व महासचिव कीर्ति कुमार परमानंद के कार्यों को खुलेमन से सराहा की। इस दौरान उन्होंने कहा कि हमें इस बात की बेहद खुशी है कि एक संगठन है जो लगातार रक्तदान कर लोगों की जान बचा रहा है। इतनी बड़ी संख्या में प्रदेश भर के रक्तवीरों को एक जगह देख कर अच्छा लगा।

मंत्री पाण्डेय ने यह भी कि संगठन के पास पॉजीटिव ब्लड से लेकर निगेटिव रक्तदाताओं की अच्छी संख्या है। यही नहीं दुर्लभ रक्त देने वाले भी संगंठन में यह अच्छी बात है। मंत्री पाण्डेय ने कहा कि आज जिस मंच से मै बोल रहा हूं उस मंच पर रक्तवीरों का सम्मान होना है और इस वजह से यह मंच काफी महत्वपूर्ण है। मंत्री पाण्डेय ने अपने वक्तव्य के दौरान तमाम रक्तवीरों को उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं दी।

बताई फाउंडेशन की गतिविधियां इससे पहले छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन के अध्यक्ष विवेक साहू ने स्वागत वक्तव्य दिया। फाउंडेशन द्वारा अब तक कराए गए रक्तदान की जानकारी दी। साथ ही प्रदेश भर में संगठन की गतिविधियों के बारे में भी जानकारी दी। कार्यक्रम के दौरान प्रदेश उपाध्यक्ष विकास जायसवाल ने उपस्थित जनों को अनुवांशिक बीमारियों से लडऩे के लिए स्टेम सेल डोनेशन व इसके संबंध में जानकारी दी।

साथ ही नेत्रदान व देहदान से जुड़ी प्रक्रिया की संपूर्ण जानकारी भी दी गई। फाउंडेशन के महासचिव कीर्ति कुमार परमानंद ने भी उपस्थित रक्तवीरों को भविष्य में हर चुनौति के लिए तैयार रहने की प्रेरणा दी।एक यूनिट रक्त किसी का बचा सकता है जीवन कार्यक्रम के दौरान विशेष अतिथि के तौर पर उपस्थित श्रमजीवी पत्रकार कल्याण संघ के कार्यकारी अध्यक्ष बीडी निजामी ने कहा कि रक्तदान महत्वपूर्ण है क्योंकि एक यूनिट रक्त किसी का जीवन बचा सकता है।

उन्होंने मंच से सभी सम्मानित होने वाले रक्तवीरों को बधाई देते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन समाज हित में बेहतर कार्य कर रहा है। आज के दौर में जहां जातिवाद हावी है वहीं रक्तदान के समय कोई नहीं पूछता कौन हिंदू है और मुसलमान है। खून सभी का एक है और सबके लिए एक है। अपनी अपनी बातों को सायराना अंदाज में भी कहा।

हम साथ चलेंगे इस पुणित काम में कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे शिक्षाविद आईपी मिश्रा ने कहा कि रक्तदान करना एक पुणित कार्य है इसमें हम भी सहभागी बनेंगे। उन्होंने बताया कि हमारे मेडिकल कॉलेज में भी ब्लडबैंक की स्थापना की जा रही है और यहां जरूरतमंदों को रक्त उपलब्ध कराया जाएगा।

उन्होंने मंच से ही उपस्थित रक्तवीरों से आग्रह किया कि वे भी शंकराचार्य मेडिकल कॉलेज के ब्लडबैंक के लिए रक्त दान करें। आईआईटी के संदर्भ में आईपी मिश्रा ने कहा कि छत्तीसगढ़ में आईआईटी की स्थापना बड़ी बात नहीं है क्योंकि देश के सभी राज्यों में आईआईटी की स्थापना की गई। अन्य राज्यों में आईआईटी राजधानी में बनाई गई लेकिन छत्तीसगढ़ में आईआईटी भिलाई में बन रही है यह हमारे मंत्री प्रेम प्रकाश पाण्डेय की उपलब्धि है।

साइकिल में जाकर किया था रक्तदान कार्यक्रम को न्यू प्रेस क्लब ऑफ भिलाई नगर के अध्यक्ष टी सूर्याराव ने भी संबोधित करते हुए अपने साथ घटी घटना का विवरण सुनाया। उन्होंने बताया कि पहले की बात है जब हम कल्याण कॉलेज में पढ़ते थे तक हम साइकिल पर हुआ करते थे। एक बुजुर्ग महिला रास्ते में मिली और बताया कि उसका पति सेक्टर-9 अस्पताल में भर्ती है और उसके लिए खून चाहिए।

वृद्ध महिला की बात सुनकर मैने अपने साइकिल पर उसे बिठाया और सेक्टर-9 अस्पताल जाकर उसके पति के लिए रक्त दान किया। इसके बाद जब घर पहुंचा और माता पिता को यह बताई तो उन्होंने मेरी पीठ थपथपाई। उन्होंने बताया कि यह उनका पहला रक्तदान था।इनका रहा विशेष सहयोग

छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन द्वारा आयोजित सम्मान समारोह दुर्ग भिलाई के समाजसेवियों का विशेष सहयोग रहा। इनमें उद्योगपति सुनील अग्रवाल, निमिश अग्रवाल, कमलेश जैन, श्याम केसवानी, मोहन चंद्राकर, निखिल शाह, दिवाकर मौर्या, छोटेलाल चौधरी, तोषण चंद्राकर, राज अडतिया, नरेश छाबड़ा, राजू टावरी, सौरभ मिश्रा, डॉ रघुनंदन शर्मा, अनुमप इलेक्ट्रानिक्स, अनुपम ज्वेलर्स, राहुल ग्लास, गुजरात इंटरप्राइजेस, अमिता बॉथ केयर, कमल सर एकेडमी आदि शामिल हैं।

ये भी खबरें पढ़ें – रायपुर : जोगी कांग्रेस ने 7 विस सीटों के लिए घोषित किया प्रत्याशियों का नाम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *