नई दिल्ली : इस्लामिक स्टेट ऑफ जम्मू-कश्मीर से जुड़े थे एनकाउंटर में मारे गए आतंकी!

नई दिल्ली : जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग के श्रीगुफारा में आतंकियों और सुरक्षा बलों के बीच एनकाउंटर जारी है। इस मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों का इस्लामिक स्टेट से कनेक्शन सामने आया है। जम्मू-कश्मीर के डीजीपी एसपी वैद ने आतंकियों के आईएसजेके (इस्लामिक स्टेट ऑफ जम्मू-कश्मीर) से संबंधित होने की आशंका जताई है।

बताया जा रहा है कि मारे गए आतंकी कश्मीर के ही रहने वाले हैं। इस एनकाउंटर में आईएसजेके का नाम आने से सुरक्षा एजेंसियों के कान भी खड़े हो गए हैं। ऐसे में यह अशंका और तेज हो गई है कि इस्लामिक स्टेट जम्मू-कश्मीर में पैर पसारने की कोशिश कर रहा है। श्रीगुफारा मुठभेड़ में तीन आतंकियों का मारा जाना सुरक्षाबलों के लिए बड़ी कामयाबी माना जा रहा है।

बता दें कि इससे पहले पिछले साल नवंबर में जम्मू-कश्मीर के जकूरा में ही एक आतंकी हमले की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट ने ही ली थी। इस हमले में एक पुलिसकर्मी भी शहीद हुआ था। इसके बाद इस्लामिक स्टेट को लेकर भारतीय सुरक्षा एजेंसी सतर्क हो गई थी।

इस्लामिक स्टेट ऑफ जम्मू कश्मीर को आईएसआईएस का ही संगठन माना जाता है। यह संगठन भारत में युवाओं को इस्लाम के नाम पर भडक़ाकर उन्हें देश विरोधी गतिविधियों में शामिल करता है। कुछ समय पहले सरकार ने भारत में इस्लामिक स्टेट के होने की खबर से इनकार किया था,

लेकिन श्रीगुफारा मुठभेड़ इस संगठन की मौजूदगी का ताजा उदाहरण है। गौरतलब है कि श्रीगुफारा में सुरक्षा बलों ने पूरे इलाके को घेर रखा है। खुफिया सूचना के आधार पर सुरक्षा बलों ने इलाके में कार्रवाई शुरू की थी। बता दें, सुरक्षाबलों ने दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में भी आतंकियों के खिलाफ एक सर्च ऑपरेशन शुरू किया है।

इस ऑपरेशन के बीच इलाके में तनाव के मद्देनजर कड़े सुरक्षा इंतजाम भी किए गए हैं।त्राल में मार गिराए गए थे तीन आतंकवादी बता दें कि पुलवामा जिले में दो दिनों पहले ही सेना और जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों के बीच एक बड़ी मुठभेड़ हो चुकी है।

मंगलवार को हुई इस मुठभेड़ के दौरान सेना ने 3 आतंकियों को मार गिराया था। इन आतंकियों के पास से एके-47 राइफल समेत अन्य सामान बरामद हुए थे। वहीं ऑपरेशन के दौरान सेना ने उस घर को भी उड़ा दिया था, जिसमें आतंकियों ने पनाह ली थी।

ये भी खबरें – पढ़ें नई दिल्ली : पीएम मोदी ने किया वाणिज्य भवन का शिलान्यास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *