छत्तीसगढ़राजनांदगांव

रायपुर : स्वर्गीय किशोर साहू का छत्तीसगढ़ की धरती से था गहरा भावनात्मक लगाव-डॉ. रमन सिंह

रायपुर : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राज्य सरकार के संस्कृति विभाग द्वारा आज जिला मुख्यालय राजनांदगांव में आयोजित समारोह में मुम्बई के प्रसिद्ध फिल्म निदेशक श्याम बेनेगल को किशोर साहू स्मृति राष्ट्रीय अलंकरण से सम्मानित किया। डॉ. सिंह ने राजधानी रायपुर निवासी छत्तीसगढ़ी फिल्मों के निदेशक मनोज वर्मा को किशोर साहू स्मृति राज्य सम्मान से नवाजा। समारोह की अध्यक्षता प्रदेश के संस्कृति मंत्री दयाल दास बघेल ने की।

श्याम बेनेगल को किशोर साहू स्मृति राष्ट्रीय अलंकरण से सम्मानित किया

लोकसभा सांसद अभिषेक सिंह सहित अनेक वरिष्ठ जनप्रतिनिधि और साहित्य, कला-संस्कृति से जुड़े लोग बड़ी संख्या में कार्यक्रम में शामिल हुए।उल्लेखनीय है कि स्वर्गीय किशोर साहू की याद में दोनों सम्मानों की स्थापना पिछले वर्ष प्रदेश सरकार के संस्कृति विभाग द्वारा की गई है। फिल्म निर्माता और निर्देशक स्वर्गीय किशोर साहू छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव निवासी थे। उनकी स्मृति में राज्य शासन द्वारा स्थापित दोनों सम्मानों की शुरूआत आज मुख्यमंत्री के हाथों की गई।

साहित्य, कला-संस्कृति से जुड़े लोग बड़ी संख्या में कार्यक्रम में शामिल हुए

मुख्य अतिथि की आसंदी से समारोह में डॉ. रमन सिंह ने कहा – छत्तीसगढ़ की धरती से और विशेष रूप से राजनांदगांव के साथ स्वर्गीय किशोर साहू का गहरा भावनात्मक लगाव था। स्वर्गीय साहू ने अपनी आत्मकथा में राजनांदगांव को सुन्दर, सौम्य और संस्कारधानी शहर बताया है।

राजनांदगांव के साथ स्वर्गीय किशोर साहू का गहरा भावनात्मक लगाव था

डॉ. रमन सिंह ने अपने उद्बोधन में देश के तीन सुप्रसिद्ध साहित्यकार स्वर्गीय गजानन माधव मुक्तिबोध, पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी और डॉ. बलदेव प्रसाद मिश्र को याद करते हुए कहा कि तीनों महान साहित्यिक विभूतियों ने राजनांदगांव को अपनी कर्मभूमि बनाकर देश और दुनिया में छत्तीसगढ़ का नाम रौशन किया। समारोह को संबोधित करते हुए श्याम बेनेगल ने कहा कि लोक-संगीत, लोक-गीत और लोक-कलाओं की दृष्टि से छत्तीसगढ़ काफी समृद्ध है।

राजनांदगांव को अपनी कर्मभूमि बनाकर देश और दुनिया में छत्तीसगढ़ का नाम रौशन किया

बेनेगल ने छत्तीसगढ़ से जुड़ी अपनी लगभग 40 वर्ष पुरानी स्मृतियों को साझा करते हुए कहा कि प्रसिद्ध वैज्ञानिक प्रोफेसर यशपाल ने साक्षरता अभियान के लिए एक प्रोजेक्ट बनाया था, जिसके तहत मैं फिल्मांकन के लिए छत्तीसगढ़ आया था। बेनेगल ने कहा – मुझे अपनी युवा अवस्था में फिल्म निर्माण के क्षेत्र में स्वर्गीय किशोर साहू के कार्यों को नजदीक से देखने का मौका मिला था। स्वर्गीय साहू ने हिन्दी सिनेमा को एक नई पहचान दिलाई।

प्रसिद्ध वैज्ञानिक प्रोफेसर यशपाल ने साक्षरता अभियान के लिए एक प्रोजेक्ट बनाया था

मुख्यमंत्री ने हिन्दी सिनेमा में स्वर्गीय किशोर साहू के योगदान का उल्लेख करते हुए कहा कि उनके द्वारा प्रसिद्ध कलाकार दिलीप कुमार और कामिनी कौशल को लेकर ‘नदिया के पार’ नामक जिस फिल्म का निर्माण किया था, उसमें नांदघाट का भी वर्णन है। डॉ. सिंह ने कहा – लोकप्रिय हिन्दी फिल्म ‘गाईड’ में भी स्वर्गीय किशोर साहू ने एक यादगार भूमिका निभाई थी। स्वर्गीय किशोर साहू की इस फिल्म में पहली बार छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक विशेषताओं की झलक मिली। डॉ. सिंह ने किशोर साहू स्मृति राष्ट्रीय अलंकरण से नवाजे गए श्याम बेनेगल द्वारा निर्मित और निर्देशित फिल्मों का उल्लेख करते हुए कहा कि बेनेगल ने हमेशा सामाजिक विषयों और सरोकारों को लेकर फिल्मों का निर्माण किया है।

स्वर्गीय किशोर साहू की इस फिल्म में पहली बार छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक विशेषताओं की झलक मिली

उनकी मंथन जैसी फिल्म सहकारिता आंदोलन के महत्व पर प्रकाश डालती है। डॉ. रमन सिंह ने किशोर साहू स्मृति राज्य अलंकरण से सम्मानित मनोज वर्मा का उल्लेख करते हुए कि वर्मा ने छत्तीसगढ़ी कला-संस्कृति को अपनी फिल्मों के माध्यम से नई ऊंचाइंयों तक पहुंचाया है। मुख्यमंत्री ने समारोह में किशोर साहू राष्ट्रीय और राज्य अलंकरणों के निर्णयक मंडल में शामिल सर्वअशोक मिश्रा, रघुवीर यादव और जयंत देशमुख को भी सम्मानित किया। डॉ. रमन सिंह ने कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ी रंगमंच के कलाकार दीपक तिवारी को इलाज के लिए एक लाख रूपए की सहायता देने की घोषणा की।

छत्तीसगढ़ी कला-संस्कृति को अपनी फिल्मों के माध्यम से नई ऊंचाइंयों तक पहुंचाया है

तिवारी स्वर्गीय हबीब तनवीर की नाट्य संस्था ‘नया थियेटर’ के सदस्य थे और तनवीर द्वारा निर्देशित लोकप्रिय छत्तीसगढ़ी नाटक ‘चरणदास चोर’ में उन्होंने यादगार भूमिका निभाई थी। मुख्यमंत्री ने स्वर्गीय राजकपूर की फिल्म ‘मेरा नाम जोकर’ सहित विभिन्न फिल्मों में काम कर चुके राजनांदगांव निवासी कलाकार नत्थू दादा को भी एक लाख रूपए की सहायता देने का ऐलान किया। अध्यक्षीय आसंदी से संस्कृति मंत्री दयाल दास बघेल ने कहा – स्वर्गीय किशोर साहू ने देश-विदेश में छत्तीसगढ़ का नाम ऊंचा किया है।

लोकप्रिय छत्तीसगढ़ी नाटक ‘चरणदास चोर’ में उन्होंने यादगार भूमिका निभाई थी

समारोह में विशेष अतिथि की आसंदी से लोकसभा सांसद अभिषेक सिंह ने समारोह में कहा – स्वर्गीय किशोर साहू ने अपने परिश्रम तथा कला-कौशल से फिल्म जगत में बड़ा स्थान बनाया। वे छत्तीसगढ़ की धरती से गहराई से जुड़े हुए थे। उनकी फिल्मों में छश्रीसगढ़ की लोक कलाओं की सोंधी महक है। संस्कृति विभाग की सचिव श्रीमती निहारिका बारीक ने भी समारोह को संबोधित किया। संस्कृति एवं पुरातत्व संचालनालय के संचालक जितेन्द्र शुक्ला ने आभार प्रकट किया। कार्यक्रम में डॉ. सुरेन्द्र दुबे ने काव्य पाठ किया।

वे छत्तीसगढ़ की धरती से गहराई से जुड़े हुए थे

समारोह में महापौर मधुसूदन यादव, राज्य समाज कल्याण बोर्ड की अध्यक्ष श्रीमती शोभा सोनी, नागरिक आपूर्ति निगम के पूर्व अध्यक्ष लीलाराम भोजवानी, स्व. किशोर साहू के सुपुत्र विक्रम साहू, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष सचिन बघेल, राजगामी संपदा न्यास के पूर्व अध्यक्ष संतोष अग्रवाल, नगर निगम के सभापति शिव वर्मा, जनपद अध्यक्ष श्रीमती सरिता कन्नौजे, पूर्व विधायक कोमल जंघेल एवं खेदूराम साहू और कलेक्टर भीम सिंह सहित जिला प्रशासन के अनेक वरिष्ठ अधिकारी, विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारी और बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button