छत्तीसगढ़Crimeबड़ी खबरेंबिलासपुररायपुर

बिलासपुर संजू त्रिपाठी हत्याकांड : भाई ही बना भाई की जान का दुश्मन ?

संजू त्रिपाठी हत्याकांड

रायपुर। छत्तीसगढ़ की न्यायधानी बिलासपुर में बुधवार को एक ऐसी घटना सामने आई जिससे हर कोई स्तब्ध रह गया। दिनदहाड़े शूटर्स ने कांग्रेस नेता संजू त्रिपाठी को उनकी गाडी में ही गोलियों से भून दिया। यह घटना बिलासपुर के सकरी बाईपास चौराहे पर घटी जहाँ लोगों की आवा-जाहि जारी थी। मगर एकाएक हुई इस वारदात से सकरी सहित पूरा शहर काँप गया। पुलिस घटनास्थल पर पहुंची संजू त्रिपाठी के शव को पोस्टमॉर्टेम के लिए भेजा। अब रिपोर्ट भी आ गई है। पीएम रिपोर्ट के मुताबिक संजू के शरीर में 10 गोलियां दागी गई थी, जिसमें से चार गोलियां ही निकाली जा सकी। एक्सरे में पेट में 4 से 5 बुलेट, सीने में 3 से 4 बुलेट, कंधे में एक, सिर व जबड़े में 3 बुलेट दिखी हैं। लेकिन, डॉक्टर काफी प्रयास के बाद गोलियों को नहीं निकाल पाए। उन्होंने बताया कि बॉडी से 7.62 एमएम की बुलेट मिली है, जो पिस्टल से चलाई गई होंगी।

मगर संजू त्रिपाठी की हत्या के पीछे आखिर कौन है ? किस साज़िश के तहत उसे मौत के घात उतारा गया है। फोर्थ आई न्यूज़ आज आपको इस राज़ से भी रूबरू करवाने जा रहा है। इसके पहले आपको यह भी बता दें कि संजू त्रिपाठी एक हिस्ट्रीशीटर था। यानी इलाके का नामी बदमाश। उसपर अलग-अलग थानों में विभिन्न अपराधों के 30 से भी ज़्यादा मामले दर्ज थे। संजू की तरह उसका भाई कपिल त्रिपाठी भी सजायाफ्ता रह चुका है। दोनों भाइयों की जोड़ी ने मिलकर कई बड़े जुर्म किए हैं। एक साथ जेल भी गए हैं। बिलासपुर के एक युवक को मध्यप्रदेश के अनूपपुर-शहडोल जिले में ले जाकर मारने और शव जला देने के मामले में दोनों भाइयों ने एक साथ जेल की सजा काटी। मगर एक दुसरे से बड़ा बनने की होड़ और वर्चस्व की लड़ाई कपिल के ही हाथों संजू को मौत की गहरी खाई तक ले आई।

पुलिस ने जब इस केस की जांच शुरू की तब मुख्य आरोपी के रूप में संजू के ही छोटे भाई कपिल त्रिपाठी का नाम सामने आ रहा है। इस घटना से जुड़े सबूत भी इसी ओर इशारा कर रहे हैं कि कपिल ने ही सुपारी देकर अपने भाई की हत्याकांड को अंजाम दिया है। मगर क्या दोनों भाइयों के बीच सिर्फ संपत्ति को लेकर ही विवाद था या फिर कुछ और वजह थी, जिसके कारण दोनों में तकरार हुआ। जानकारी मिली है कि दोनों शहर की विवादित जमीनों का सौदा कराते और लाखों रुपए की कमाई करने लगे थे।

संजू त्रिपाठी से शहर के कारोबारियों से भी व्यापारिक संबंध था। वह कारोबारियों को संरक्षण देने के नाम पर डील करता था और उनसे एग्रीमेंट करा लेता था। इसी आड़ में संजू ने लाखों की कमाई की। इसी दौरान उसका भाई कपिल त्रिपाठी भी अपना अलग डील करने लगा था। ऐसे में संजू को लगा कि वह उसके कारोबार में हस्तक्षेप कर रहा है और उसके वर्चस्व को कम करना चाहता है। यहीं से उनके बीच मनमुटाव शुरू हुआ और फिर दूरियां बढ़ने लगी। समय बीतने के साथ ही दोनों भाई एक-दूसरे के दुश्मन बन गए। संजू और उसके पिता जयनारायण त्रिपाठी के बीच भी दुश्मनी थी। जयनारायण हमेशा कपिल का पक्ष लेता था। जबकि, संजू उसे कपिल से दूर रहने की धमकी देता था। संजू के आतंक के डर से ही जयनारायण त्रिपाठी अपनी दूसरी पत्नी के साथ दुर्ग में रहने लगा। वहीं, कपिल भी अपने भाई से अलग हो गया था। बावजूद इसके उनके कारोबार में हस्तक्षेप और वर्चस्व की लड़ाई चल रही थी। संजू अपने भाई कपिल की जमीन की डील में हस्तक्षेप करता था और उसे धमकाता था।

बीते मई माह में जब संजू त्रिपाठी पर हत्या के प्रयास का केस दर्ज हुआ, तब उसे फरार होना पड़ा। इसी दौरान उसकी गैरमौजूदगी में कपिल त्रिपाठी ने उसलापुर की एक जमीन का 90 लाख रुपए में सौदा तय कर लिया। संजू के जमानत लेने या फिर केस के रफादफा होने से पहले ही कपिल इस सौदे को पूरा करने की हड़बड़ी में था, जिसमें वह कामयाब भी हो गया। इसमें उसने शहर के कई रसूखदारों को भी शामिल किया था। माना जा रहा है कि इसी कमाई के पैसों को कपिल ने शूटर बुलाने में खर्च किया है।

संजू अपने घर के साथ ही पत्नी और बच्चों की सुरक्षा के लिए हमेशा बॉडी गार्ड साथ रखता था। इसके साथ ही वह खुद हमेशा 8-10 लोगों को लेकर चलता था। लेकिन, इस केस के बाद से वह अकेले घूमने लगा था। तखतपुर क्षेत्र के ग्राम सावांताल स्थित फार्म हाउस में वह पिछले तीन दिनों से अकेले आना-जाना करता था। उसके इसी ओवर कॉन्फिडेंस का हमलावरों ने फायदा उठाया और मौका पाकर उस पर फायरिंग कर उसकी हत्या कर दी। इस हत्याकांड की सुई हर तरफ से मृतक के भाई कपिल त्रिपाठी पर ही घूम रही है जो की फरार चल रहा है। कपिल को बिलासपुर से भिलाई पहुंचाने वाले तीन नाम सामने आए हैं, जिनमें केदार सिंह, रवि सिंह और संजीव निर्मलकर शामिल हैं।

पुलिस केदार और रवि सिंह को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। लेकिन, अब तक कोई सुराग हाथ नहीं लगा है। बहरहाल तमाम सबूत और हालात तो इसी ओर इशारा कर रहे हैं कि कपिल ने ही संजू त्रिपाठी की ह्त्या करवाई है। इस पूरे हत्याकांड को लेकर आप क्या राय रखते हैं ? क्या अब छत्तीसगढ़ में अपराधी बेख़ौफ़ हो चुके हैं यह शांतिप्रिय राज्य भी यूपी बिहार स्टाइल में गंगवार और रंजिश कत्ल की तरफ बढ़ता चला जा रहा है ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button