छत्तीसगढ़

मुख्यमंत्री ग्राम मुक्ता में भेंट- मुलाकात स्थल पर पहुंचे

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भेंट मुलाकात में राज्य शासन की प्रमुख जनकल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन की जानकारी ग्रामीणों से ली।
ग्राम मुक्ता के किसान  गजानंद गबेल ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनका ढाई लाख रुपये का ऋण माफ हुआ। उन्होंने  समर्थन मूल्य में धान की बिक्री किया।  उनका 20 एकड़ जमीन है जिसमे खेती करते है और धान बेचने से राजीव गांधी किसान न्याय योजना से हुई आमदनी से पौने दो एकड़ खेत खरीदने के साथ अपनी पत्नी के लिए भी सामान खरीदा है।
ग्राम चिखली निवासी किसान भगत राम चन्द्रा ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनका लगभग सवा लाख से अधिक का ऋण माफ हुआ है। उन्होंने भी 3 एकड़ में लगाये फसल का धान बेचा है और राशि मिलने से पत्नी के लिए साड़ी खरीदा है एवं बोर भी खुदवाया है।
ग्राम जगमहन की पूजा खरे ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनका गरीबी रेखा का राशन कार्ड बन जाने से उसके बेटे का एडमिशन स्वामी आत्मानन्द शासकीय अंग्रेजी विद्यालय में हुआ है। उन्हें समय पर 35 किलो चावल, शक्कर, नमक भी मिल जाता है। मुख्यमंत्री ने भेंट-मुलाकात की शुरूआत करते हुए कहा कि मैं आप लोगों से यह जानकारी लेने आया हूँ कि आप लोगों को राज्य शासन की योजनाओं का लाभ मिल रहा है या नहीं। लोगों से पूछा-राजीव गांधी किसान न्याय योजना की तीसरे किस्त की राशि किन किनके खाते में आई है। अनेक किसानों ने खाते में राशि मिलने की जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कर्ज माफी, समर्थन मूल्य पर धान खरीदी, राशन कार्ड की जानकारी ली। ग्राम चिखली के किसान भगत से पूछा-आपके पास कुल कितनी खेती है, कितना पैसा राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत मिला, पैसे का क्या उपयोग कर रहे है। महिला स्व सहायता समूह की महिला से चर्चा, वर्मीकम्पोस्ट बनाने वाले समूह की महिला ने मुख्यमंत्री जी से कहा आप ऐसे ही अच्छी योजनाएं लाते रहें। स्वामी आत्मानंद स्कूल की छात्रा ने कहा पहले 20से 25हजार फीस लगती थी अब हमे फीस नहीं देनी पड़ती।
मुख्यमंत्री सुपोषण योजना से लाभान्वित ग्राम मुक्ता की देव कुमारी गबेल ने बताया कि उनका नाती कुपोषित था,जिस कारण आंगनबाड़ी केंद्र द्वारा रेडी टू ईट, गर्म भोजन दिया जा रहा था। हर महीने बच्चे का वजन भी बढ़ रहा था,और अभी वह स्वस्थ और सुपोषित है।उन्होंने मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। मनहर कमलेश  राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना के हितग्राही,  मनोहर कमलेश ने बताया की योजना के तहत उनके खाते में 2000 रुपए की किस्त आ गई है। मुख्यमंत्री ने सभी पात्र  भूमिहीन मजदूरों से योजना का लाभ लेने की अपील की।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button