छत्तीसगढ़

भारती विश्वविद्यालय में विधि और कृषि के विद्यार्थियों के लिए इंडक्शन कार्यक्रम आयोजित

भारती विश्वविद्यालय, दुर्ग में विधि और के विद्यार्थियों के लिए इंडक्शन कार्यक्रम आयोजित किया गया। फैकल्टी ऑफ लॉ और भारतीय कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इस इंडक्शन प्रोग्राम में मुख्य अतिथि के रूप में विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एच.के. पाठक उपस्थित थे। इस अवसर पर डॉ. एच.के. पाठक ने नवप्रवेशित छात्र-छात्राओं का स्वागत किया। उन्होंने एक अच्छे विद्यार्थी के गुणों की चर्चा की। साथ ही विद्यार्थियों को कई प्रेरक प्रसंग का उद्धरण देकर उत्साहवर्धन किया।

डॉ. आलोक भट्ट, डीन अकादमिक ने विद्यार्थियों को विश्वविद्यालय के बारे में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि अपने सपनों को साकार करने के लिए विद्यार्थियों को कड़ी मेहनत करनी होगी। भारतीय कृषि महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. ए.के. दुबे ने अपने उद्बोधन में कहा कि इंडक्शन प्रोग्राम का उद्देश्य अध्ययन-अध्यापन की गतिविधियों से विद्यार्थियों को अवगत कराना होता है। उन्होंने कृषि क्षेत्र में रोजगार की संभावनाओं के बारे में जानकारी दी।
डॉ. डी.सी. परसाई, डीन इंजीनियरिंग ने कहा कि विश्वविद्यालय में अनुशासन बहुत जरूरी है। जब आप अपना अनुशासन बनाए रखते हैं तो जीवन में कोई भी कार्य मुश्किल नहीं होता।

इस अवसर पर भारतीय कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. एस.के. ताम्रकर ने कहा कि भारती विश्वविद्यालय परिसर एक रैगिंग मुक्त परिसर है। कृषि अभियन्ता के बारे में उन्होंने कहा कि कृषि की गुणवत्ता एवं उत्पादन बढ़ाना ही कृषि अभियन्ता का उद्देश्य होता है।

बिंदेश्वरी बारा ने बी.एस.-सी. कृषि पाठ्यक्रम के बारे में विस्तार से बताया। साथ ही कृषि के क्षेत्र में रोजगार के अवसरों की भी जानकारी दी। लॉ फैकल्टी के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. मुकेश कुमार रॉय ने लॉ पाठ्यक्रमों की विस्तार से जानकारी दी और लॉ के क्षेत्र में रोजगार के अवसरों के बारे में बताया।

भारती विश्वविद्यालय के कुलाधिपति सुशील चन्द्राकर ने नवप्रवेशित छात्र-छात्राओं का स्वागत किया और आशीर्वचन दिया। कुलसचिव डॉ. वीरेन्द्र स्वर्णकार ने कहा कि भारती विश्वविद्यालय में छात्र-छात्राओं को सभी आवश्यक सुविधाएं प्रदान की जाती हैं। छात्र-छात्राओं को स्कालरशिप, फेलोशिप, प्लेसमेंट इत्यादि सुविधाएं मिलती हैं।

कार्यक्रम का संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन लॉ फैकल्टी की सहायक प्राध्यापक सुशोभा सिंह ठाकुर ने किया। इस अवसर पर सुश्वेता सिंह, डॉ. जिज्ञासा पाण्डेय, डॉ. वन्दना श्रीवास, डॉ. शालिनी, डॉ. गुरु सरन लाल सहित प्राध्यापकगण और बड़ी संख्या में नवप्रवेशित छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button