इंदौरछत्तीसगढ़मध्यप्रदेशरायपुर

महात्मा गांधी को Kalicharan Maharaj ने दी थी गाली, जेल से निकलते ही बोले, मैं तो गांधी का पुजारी…

जिस कालीचरण महाराज को, पहले चंद लोग ही पहचानते थे, वो आज सुर्खियों में हैं. लोग उनकी राहों में फूल बिछा रहे हैं. उनका नायक की तरह स्वागत कर रहे हैं. और ये सब तब हुआ, जब छत्तीसगढ़ में कालीचरण महाराज के खिलाफ राजद्रोह का केस लगा. ये पूरा मामला क्या था. क्यों कालीचरण महाराज पर राजद्रोह का केस लगा. और क्या 95 दिन जेल में गुजारने के बाद अब कालीचरण महाराज की भाषा नरम हुई है. ये सब बातें हम आपको बताने जा रहे हैं.

दरअसल राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को गाली देने वाले कालीचरण महाराज रायपुर की जेल से बेल पर रिहा हो गए हैं. वहीं जेल से छूटने के बाद कालीचरण महाराज, इंदौर पहुंचे थे. इस दौरान अहिल्याबाई International एयरपोर्ट पर उनके समर्थकों की काफी भीड़ मौजूद रही. समर्थकों ने कालीचरण का किसी नायक की तरह जबरदस्त स्वागत किया.

इस दौरान कालीचरण ने कहा कि मैं आज भी अपने बयान पर कायम हूं. मैं देवी अहिल्या की नगरी इंदौर पहुंचा हूं, और यहां लोगों का उत्साह देखकर गदगद हूं. वहीं मीडिया से बातचीत के दौरान कालीकरण महाराज ने कहा, कि मैं हिंदूओं के लिए सदैव काम करता रहूंगा.

कालीचरण ने आगे कहा कि लोगों ने जिस तरह यहां पहुंचकर मेरा स्वागत किया है, उसने मेरा उत्साह और मनोबल और बढ़ा दिया है. कालीचरण ने आगे कहा कि मुझे सच बोलने की सजा मिली है, और मुझे अपने बयान पर कोई पछतावा नहीं है.

उन्होंने कहा, मैने “आजीवन ब्रह्मचर्य व्रत किया, और पूरी तरह से गांधी को फॉलो करता था। खादी पहनता था। पूरी तरह से गांधीवादी था, लेकिन जब मैंने आगे की पढ़ाई की तब समझ आया कि गांधी ने देश के साथ, धर्म के साथ क्या किया है, इसलिए मेरे हृदय में गांधी के लिए नफरत भर गई। नफरत करता हूं मैं गांधी से।”

कालीचरण महाराज ने कहा, “अगर राष्ट्र और धर्म के लिए तलवार उठाना गलत है, तो राम राम कहने वाले गांधी ये देखें कि धर्म के लिए भगवान श्री रामचंद्र ने भी शस्त्र उठाया था। उन्होने कहा, कृप्या मुझे साधू संत, महापुरुष ना समझें। मैं काली मां का बेटा हूं।” कालीचरण ने कहा, अब्दुल रशीद नाम के एक व्यक्ति ने स्वामी श्रद्धानंद जी का खून कर दिया, तो गांधी ने उसको अपना भाई बताया। यह अहिंसा है? और गांधी ने सुखदेव-भगत सिंह की फांसी नहीं रुकवाई।

आपको बता दें, कि कालीचरण महाराज ने छत्तीसगढ़ के रायपुर में 26 दिसंबर को धर्म संसद में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के लिए आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया था.

कालीचरण के इस बयान का कांग्रेस ने जमकर विरोध किया था और उनके खिलाफ टिकरापारा थान में शिकायत भी दर्ज कराई गई थी. इस प्रकरण के बाद कालीचरण की एक वीडियो भी वायरल हुई थी जिसमें उन्होंने फिर महात्मा गांधी के लिए अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया था. इसके बाद कालीचरण महाराज फरार हो गए थे. बाद में उन्हें मध्य प्रदेश के छतरपुर से गिरफ्तार कर लिया गया था.
तो आप जेल से छूटने के बाद हुए कालीचरण महाराज के इन स्वागत की तस्वीरों को देखकर क्या कहेंगे. अपनी राय, कमेंट बॉक्स में जरूर रखें. क्योंकि आपकी राय, लोगों का नजरिया बदलने में मदद करती है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button