देशबड़ी खबरें

कुंभ में PM मोदी की डुबकी पर मायावती का वार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में जारी कुंभ में स्नान किया. जिस पर बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने उनपर निशाना साधा है. मायावती ने सोमवार को ट्वीट किया कि चुनाव के समय शाही स्नान करने से वादाखिलाफी या जनता पर किए जा रहे पाप क्या धुल जाएंगे. इसके अलावा बसपा सुप्रीमो ने किसान योजना को लेकर भी केंद्र सरकार को घेरा.

शाही स्नान से क्या धुल जाएंगे पाप?

बसपा प्रमुख मायावती ने सोमवार को ट्वीट किया, ’’चुनाव के समय संगम में शाही स्नान करने से मोदी सरकार की चुनावी वादाखिलाफी, जनता से विश्वासघात व अन्य प्रकार की सरकारी ज़ुल्म-ज़्यादती व पाप क्या धुल जाएंगे? नोटबंदी, जीएसटी, जातिवाद, द्वेष व साम्प्रदायिकता आदि की जबरदस्त मार से त्रस्त लोग क्या बीजेपी को इतनी आसानी से माफ कर देंगे?’’

किसान योजना को लेकर भी मायावती ने बोला हमला

सिर्फ कुंभ में स्नान ही नहीं बल्कि रविवार को शुरू की गई किसान योजना पर भी मायावती ने हमला बोला. उन्होंने दूसरे ट्वीट में लिखा, ‘’ मोदी सरकार को किसान व खेतिहर मज़दूरों में अन्तर करना चाहिए. चुनाव से पहले 500 रु प्रति माह की सहायता भूमिहीन खेतिहर मज़दूरों हेतु तो ठीक है, लेकिन किसानों के लिए नहीं. किसान पैदावार का वाजिब मूल्य चाहते हैं. बीजेपी सरकार 5 साल में यह सुनिश्चित नहीं कर पाई, यह विफलता है.’’

मायावती का डिजिटल वार  

गौरतलब है कि बीते दिनों ही बसपा प्रमुख मायावती माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर आई हैं. अब वह प्रेस रिलीज नहीं बल्कि ट्विटर के जरिए जनता से रूबरू हो रही हैं. मायावती लगातार हर मुद्दे पर ट्वीट कर अपनी राय रख रही हैं वहीं बीजेपी की आलोचना भी कर रही हैं.

प्रधानमंत्री ने लगाई थी संगम में डुबकी

आपको बता दें कि रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रयागराज में विधि विधान से पूजा-अर्चना की. और संगम में डुबकी भी लगाई, प्रधानमंत्री ने इस दौरान कुंभ क्षेत्र में कार्यरत सफाईकर्मचारियों का सम्मान भी किया. इस दौरान उनके साथ राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे. प्रधानमंत्री ने यहां कुछ सफाईकर्मियों के पैर भी धोए.

किसानों के लिए शुरू हुई बड़ी योजना

प्रयागराज जाने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने योगी आदित्यनाथ के गढ़ गोरखपुर में किसान समृद्धि योजना की शुरुआत की. इसके तहत दो एकड़ से कम भूमि वाले किसानों को केंद्र सरकार की ओर से प्रति वर्ष 6000 रुपये की मदद की जाएगी, जिसकी पहली किस्त रविवार को भेजी गई. इस योजना से सीधे तौर पर देश के 12 करोड़ किसानों को लाभ पहुंचेगा. लोकसभा चुनाव के मद्देनजर इसे बीजेपी सरकार का मास्टरस्ट्रोक माना जा रहा है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button