छत्तीसगढ़बड़ी खबरेंरायपुर

संजू त्रिपाठी केस साल्व्ड:संजू के कत्ल की सुपारी देने वाला कपिल भी गिरफ्तार!

संजू त्रिपाठी केस साल्व्ड

रायपुर। बिलासपुर में बीते बुधवार को हुए संजू त्रिपाठी हत्याकांड का अब पूरी तरह से खुलासा हो चुका है और साइन ज़ में आपको इस हत्याकांड के इनसाइड स्टोरी बताई थी बि जिसे आप ऊपर आई बटन क्लिक करके देख सकते हैं इस स्टोरी में हमने आपको बताया था कि किस तरह से परिवार की आपसी खींचतान बाप बेटों के बिगड़े रिश्ते अवैध संबंध और दोनों भाई में वर्चस्व की लड़ाई हत्याकांड का कारण बनी थी ।

संजू त्रिपाठी की सुपारी दी गई थी और इसका शक काफी पहले से ही संजू त्रिपाठी के छोटे भाई कपिल त्रिपाठी पर था जिसके अपने भाई से संबंध अच्छे नहीं थे एक समय जरूर था जब दोनों भाई मिलकर अपराधों को अंजाम देते थे और अपने पिता जय नारायण त्रिपाठी किस शहर पर काम करते थे मगर जब से संजीव को यह मालूम हुआ कि जनान द्रौपाठी अपने हिस्से की कुछ जमीने और बिजनेस कपिल के नाम कर रहा है तब से वह काफी खींच में था इसके साथ ही जय नारायण त्रिपाठी कि वह बोली बेटी के साथ अपने पिता के अवैध संबंधों का पता लगने के बाद वह भी अपनी मुंह बोली बहन के साथ कई बार दुष्कर्म किया करता था ऐसे में मुंह बोली बहन संजू के पिता जयनारायण त्रिपाठी और संजू का छोटा भाई कपिल त्रिपाठी यह तीनों ही संजू के खून के प्यासे हो गए थे और इन्होंने ही एक ज्ञान को संजू के मर्डर की सुपारी दी थी ।

संजू त्रिपाठी की सरेआम हत्या के बाद कपिल त्रिपाठी फरार चल रहा था वहीं पुलिस ने पूछताछ के लिए संजू के पिता जय नारायण त्रिपाठी उसकी मुंह बोली बहन और संजू के कुछ और दोस्तों को भी अपनी रडार पर लिया था जय नारायण त्रिपाठी तो पुलिस हिरासत में ही चल रहा था और अब पुलिस ने इस पूरे हत्याकांड का आधिकारिक पटाक्षेप करते हए संजू त्रिपाठी के फरार भाई और इस केस के मास्टरमाइंड कपिल त्रिपाठी को भी गिरफ्तार कर लिया है।

बिलासपुर पुलिस ने बताया कि पैतृक संपत्ति के बंटवारे को लेकर संजू त्रिपाठी की हत्या हुई. संजू त्रिपाठी के परिवारवालों ने इस मर्डर कांड की साजिश रची . पिता और सगे भाइयों ने संजू त्रिपाठी के मर्डर की सुपारी दी. उसके बाद प्रोफेशनल शूटर्स से 10 लाख में इस वारदात की डील की गई. इस केस में मुख्य आरोपी कपिल त्रिपाठी लखनऊ एक्सप्रेस वे से गिरफ्तार किया गया. करीब पांच अज्ञात शूटर्स और झारखंड और रायगढ़ के हथियार सप्लायर इस केस में फरार बताए जा रहे हैं.

पुलिस ने करीब 20 लाख मोबाइल नंबरों का विश्लेषण कर इस केस को सॉल्व किया. करीब पांच राज्यों जिसमें मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, महाराष्ट्र, दिल्ली और छत्तीसगढ़ में एक हजार से अधिक सीसीटीवी कैमरे पुलिस ने खंगाले. तब जाकर मुख्य आरोपी तक पुलिस पहुंच पाई. पुलिस ने इस केस में तीन पिस्टल को जब्त किया है. जबकि 11 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. बहरहाल इस तरह के बड़े केस को सॉल्व करने में पुलिस को थोड़ा वक्त ज़रूर लगा मगर इस केस ने रिश्तों की कई परतों को खोलकर रख दिया। किस तरह से संपत्ति, वर्चस्व और आपसी खींचतान आज के समय में बाप बेटों के भाई भाई के रिश्तो में भी जहर गोल्ड देती है यह अपने आप में समझ से परे है|

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button