छत्तीसगढ़बड़ी खबरेंरायपुर

क्या इस बार फिर अमितेश शुक्ल लहराएंगे कांग्रेस का झंडा,या फिर बीजेपी से मिलेगी करारी शिकस्त ?

दर्शकों की डिमांड पर : राजिम विधानसभा का विश्लेषण

नमस्कार दोस्तों, फोर्थ आई न्यूज़ में आप सभी का एक बार फिर से स्वागत है। दोस्तों, दर्शकों की डिमांड का ख़ास ख्याल रखते हुए आज हम राजिम विधानसभा का विश्लेषण करने जा रहे हैं। राजिम विधानसभा सीट छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले के अंतर्गत आती है। यह क्षेत्र अपने पर्यटन स्थलों के लिए मशहूर है। यहाँ का राजीवलोचन मंदिर विश्वप्रसिद्ध है। और पुन्नी कर माघी मेले के लिए भी राजिम देशभर में जाना जाता है, यहाँ हर साल इस मौके पर हज़ारों साधू-संतों का भी आगमन होता है।

इस क्षेत्र के राजनितिक दृष्टिकोण की बात करें तो यहाँ वर्तमान में कांग्रेस के अमितेश शुक्ल विधायक हैं वहीं भारतीय जनता पार्टी के चुन्नीलाल साहू सांसद हैं। राजिम विधानसभा एक सामान्य सीट है, इस चुनाव में साल 2003 से साल 2018 के विधानसभा चुनाव तक एक बार कांग्रेस तो एक बार बीजेपी के प्रत्याशी को जनता का आशीर्वाद मिलता रहा है। साल 2003 के विधानसभा चुनाव में राजिम विधानसभा सीट से कांग्रेस के वर्तमान विधायक अमितेश शुक्ल बतौर प्रत्याशी खड़े हुए थे उनके प्रतिद्वंदी के रूप में बीजेपी ने चंदूलाल साहू को मैदान में उतारा था, उस चुनाव में बीजेपी के चंदूलाल साहू ने 57 हज़ार 798 वोटों से जीत हासिल की थी और विधायक बने, कांग्रेस के अमितेश शुक्ल को 45 हज़ार 922 वोट ही मिल पाए थे।

इसके बाद साल 2008 में हुए विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने तत्कालीन विधायक चंदूलाल साहू का टिकट काट दिया और उनके स्थान पर ब्राह्मण चेहरे संतोष उपाध्याय को टिकट दिया लेकिन कांग्रेस ने अपने हारे हुए प्रत्याशी अमितेश शुक्ल पर एक बार फिर दांव चला, इस चुनाव में कांग्रेस का यह दांव चल पड़ा अमितेश शुक्ल 55 हज़ार 803 मतों से जीतकर राजिम के विधायक बने वहीं बीजेपी के संतोष उपाध्याय 51887 वोट ही हासिल कर पाए और इस तरह से ब्राह्मण बनाम ब्राह्मण की लड़ाई में अमितेश शुक्ल की विजय हुई।

साल 2013 के विधानसभा चुनाव में एक बार फिर बाज़ी पलट गई, इस बार फिर राजिम से कांग्रेस ने अमितेश शुक्ल जो कि सिटिंग एमएलए भी थे उन्हें ही मौका दिया वहीं बीजेपी ने पूरी तैयारी के साथ पिछला चुनाव हारे प्रत्याशी संतोष उपाध्याय को ही टिकट दिया और इस बार बीजेपी की मेहनत रंग लाइ संतोष उपाध्याय को 69625 वोट मिले, वो विधायक चुने गए वहीं तत्कालीन विधायक अमितेश शुक्ल को हार का मुंह देखना पड़ा उन्हें 67184 वोटों से अपनी विधायकी गंवानी पड़ी।

पिछले चुनाव यानि साल 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के अमितेश शुक्ल, बीजेपी के संतोष उपाध्याय और जेसिसीजे के रोहित साहू त्रिकोणीय मुकाबले में थे, इस चुनाव में अमितेश शुक्ल ने अब तक की सबसे बड़ी लीड से चुनाव जीता उन्हें कुल 99041 वोट मिले, बीजेपी के संतोष उपाध्याय को 40909 वोट तो वहीं जेसिसीजे के रोहित साहू को कुल 23 हज़ार 776 वोट हासिल हुए।

दोस्तों इस बार यह पूर्वानुमान है कि कांग्रेस इस बार भी अमितेश शुक्ल को ही राजिम विधानसभा से टिकट दे सकती है, वहीं सूत्र बता रहे हैं कि इस बार बीजेपी से किसी नए चेहरे को चुनाव में उतारे जाने की चर्चा है मगर यह नया चेहरा कौन हो सकता है ? क्या कांग्रेस के अमितेश शुक्ल इस बार फिर राजिम में भारी पड़ेंगे ?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button