मुंबई : सेंसेक्स लाइव टुडे: गिरावट के साथ खुला सेंसेक्स

मुंबई : सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन शेयर बाजार सुस्ती के साथ खुला है । बीएसई सेंसेक्स 41 अंकों की गिरावट के साथ 35,390 के स्तर पर खुला है। इसके अलावा निफ्टी भी मामूली गिरावट के साथ 10,728 के स्तर पर खुला। इससे पहले गुरुवार को भी कारोबार गिरावट के साथ बंद हुआ था। बिकवाली की वजह से शेयर लुढक़ गए।

सेंसेक्स 114.94 अंक टूटकर 35,432.39 तथा एनएसई निफ्टी 30.95 अंक की गिरावट के साथ 10,741.10 अंक पर बंद हुआ था। ऐसे में गुरुवार की कमजोरी का शुक्रवार सुबह भी जारी रहना निवेशकों के लिए चिंता की बात है। खासतौर पर बैंकिंग शेयरों में सुस्ती देखने को मिल रही है।

जानकारों की मानें तो पीएनबी के बाद अब बैंक ऑफ महाराष्ट्र से जुड़े लोन विवाद के चलते यह स्थिति पैदा हुई है। हालांकि इस बीच रुपये ने उछाल के साथ कारोबार शुरू किया है। शुरुआती कारोबार में 17 पैसे की मजबूती के साथ डॉलर के मुकाबले 67.81 रुपये के स्तर पर रुपया खुला है।

2 ) चेन्नई : विश्व व्यापार संगठन में बड़ी चुनौतियां: सुरेश प्रभु

चेन्नई : केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु ने आज यहां कहा कि भारत विश्व व्यापार संगठन तथा वैश्विक व्यापार प्रणाली में वास्तविक चुनौतियां देख रहा है। निर्यातकों के शीर्ष संगठन फियो के एक कार्यक्रम उद्योगपतियों को संबोधित करते हुए केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री प्रभु ने कहा, ‘‘पहली बार देश डब्ल्यूटीओ और वैश्विक व्यापार प्रणाली में वास्तविक चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। क्योंकि पहली बार विभिन्न देश बाधा खड़ी कर रहे हैं और यह वास्तिवक मुद्दा बन रहा है।

उन्होंने कहा कि भारत सभी देशों के साथ मित्रता की कोशिश कर रहा है। प्रभु ने कहा, ‘‘जहां तक व्यापार का संबंध है , हम दुश्मन नहीं हैं। चीन के साथ हमारा व्यापार घाटा बहुत ज्यादा है। मैंने चीन के वाणिज्य मंत्री (झोंग शान) को आमंत्रित किया और कई समझौतों पर हस्ताक्षर किये। हमने न केवल व्यापार घाटा कम करने बल्कि व्यापार में संतुलन लाने का भी फैसला किया।’’

उन्होंने कहा कि सरकार डब्ल्यूटीओ मुद्दों पर यूरोपीय संघ के साथ भी बातचीत कर रही है क्योंकि यह बड़ा बाजार है। देश में कृषि उत्पादन के बारे में वाणिज्य मंत्री ने कहा कि देश में कुल कृषि उत्पादन 28.5 करोड़ टन रहा जबकि बागवानी उत्पादन पिछले साल 30 करोड़ टन था। उन्होंने कहा , ‘‘ इस साल हम बेहतर मानसून की उम्मीद कर रहे हैं। इससे संभवत: कृषि एवं बागवानी उत्पादन 62 करोड़ टन से अधिक होगा ..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *