छत्तीसगढ़बड़ी खबरेंबलौदाबाजार

बलौदा बाज़ार : बीएमडब्लू कार भीषण हादसे में हुई चकनाचूर,एक व्यवसायी की मौत,

बलौदाबाजार :  देर रात भीषण सडक़ हादसे में एक युवा व्यवसायी की मौत हो गयी। वहीं मृतक व्यवसायी के सगे भाई समेत दो गंभीर रूप से जख्मी हो गए। हादसा बीएमडब्लू कार की पेड़ में टकराने से हुई है।मृतक युवा व्यवसायी का नाम गणपत साहू है। मृतक गणपत और सगे भाई राकेश के पिता जुगुत राम साहू शहर के प्रतिष्ठित कपड़ा और ज्वेलरी कारोबारी हैं
मिली जानकारी के मुताबिक ज्वेलरी व्यपारी गणपत साहू अपने भाई राकेश साहू और दोस्त गजपाल साहू के साथ ज्वेलरी और कपड़े की खरीददारी करके वापस अपने बीएमडब्लू कार से लौट रहे थे।

रात 11 बजे के करीब खरोरा पलारी रोड पर गांव भैंसा कर्मा के बीच तेज़ रफ़्तार कार कर पेड़ से टकरा गयी, इस घटना में गनपत, राकेश और गजपाल तीनों गंभीर रूप से जख्मी हो गए।घटना की सूचना के बाद तत्काल मौके पर पुलिस पहुंची और घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया। जहां गणपत साहू की मौत हो गयी, वहीं राकेश और गजपाल को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उनकी स्थिति गंभीर बनी हुई है। इधर हादसे में कार चकनाचूर हो गयी है।

2 ) रायपुर : पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग को लेकर श्रमजीवी पत्रकार 14 को देंगे धरना

रायपुर : छत्तीसगढ़ प्रदेश के पत्रकार बड़ी संख्या में 14 मई 2018 की एकत्रित होंगे और पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग को लेकर आंदोलन करेंगे 3 मई को रायगढ़ में आयोजित धरना प्रदर्शन में 14 मई को राजधानी रायपुर में आंदोलन की सहमति बनी है जिसके लिए 7 तारीख को बैठक कर 14 मई के आंदोलन की अंतिम रूपरेखा तैयार की जाएगी।

प्रदेशभर से रायगढ़ में धरना प्रदर्शन में शामिल हुए पत्रकारों की एक राय थी पत्रकारिता के लिए स्वस्थ सुरक्षित माहौल के लिए अब पत्रकार सुरक्षा कानून अनिवार्य है क्योंकि आए दिन पत्रकारों के खिलाफ हिंसा और फर्जी प्रकरण में फंसाए जाने के मामले सामने आ रहे है जिसमें पुलिस प्रशासन भी पत्रकारों का पक्ष लिए बिना एकतरफा कार्रवाई करती है जबकि पत्रकारों के खिलाफ प्रकरण पंजीबद्ध किये जाने के पूर्व बड़े अधिकारियों से मामले की जांच का प्रावधान है साथ ही पत्रकार सुरक्षा कानून संयुक्त संघर्ष समिति के बैनर तले पूर्व में हुए आंदोलन के पश्चात राज्य शासन द्वारा एक समन्वय समिति का गठन भी किया गया है

जिसमे गृह विभाग,जनसम्पर्क विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ समिति में 3 वरिष्ठ पत्रकार सदस्य है पर इसके बावजूद पत्रकारों के खिलाफ प्रकरण दर्ज करने के पूर्व पुलिस द्वारा कोताही बरती जा रही है जिसके चलते पत्रकारों को प्रताडि़त करने में प्रभावशाली लोग सफल होते है।

कानून सबके लिए बराबर है पर जनहित के लिए पत्रकारिता करने वाले साहसी पत्रकारों के खिलाफ साजिशन मामला बना कर पत्रकारो को धमकाने और उनकी आवाज को दबाने का प्रयास किया जाता है जिसके लिए अब पत्रकार एकजुट होकर फिर से मुखर हो गए है और इसी कड़ी में अब विभिन्न संगठनों के पत्रकार एकमंच में एकजुट होकर पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग को लेकर राजधानी रायपुर में वृहद आंदोलन करने जा रहे है। उक्त ख़बर विज्ञप्ति सुधीर आज़ाद तंबोली ने जारी कर दी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button