नईदिल्ली : अरुण जेटली ने संभाला वित्त मंत्रालय का कार्यभार

नईदिल्ली : केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने वित्त मंत्रालय का कार्यभार फिर से संभाल लिया है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सलाह के बाद उन्हें कार्यभार सौंपने का निर्देश दिया. वित्तमंत्री अरुण जेटली के बीमार होने के बाद से पीयूष गोयल को वित्त मंत्रालय का अस्थाई प्रभार सौंपा गया था.

ये खबर भी पढ़ें – मुंबई : सेंसेक्स, निफ्टी रिकॉर्ड स्तरों पर पहुंचे

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली की कुछ दिन पहले ही ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में रेनल (गुर्दा संबंधी) ट्रांसप्लांट सर्जरी हुई थी. इससे पहले जेटली का सितंबर 2014 में बैरिएट्रिक ऑपरेशन हुआ था. लंबे समय से मधुमेह के कारण वजन बढऩे की समस्या के निजात के लिए उन्होंने यह ऑपरेशन करवाया था. यह ऑपरेशन पहले मैक्स हॉस्पीटल में हुआ था पर बाद में कुछ दिक्कतें आने के कारण उन्हें एम्स रेफर किया गया था. कुछ साल पहले उनकी हार्ट सर्जरी हुई थी.

ये खबर भी पढ़ें – मुंबई : शेयर बाजार : सेंसेक्स, निफ्टी में आधा फीसदी तेजी

65 वर्षीय जेटली ने अप्रैल के शुरुआती दिनों में ऑफिस आना बंद कर दिया था. 14 मई को उनकी रेनल ट्रांसप्लांट की सर्जरी हुई थी. उनकी जगह रेल और कोयला मंत्री पीयूष गोयल को वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई थी. जेटली की गैरमौजूदगी में गोयल ने दो बार जीएसटी काउंसिल की मीटिंग अटैंड की थी.

बता दें कि जेटली, 2014 में मोदी सरकार के सत्ता में आने पर वित्त मंत्री बनाए गए थे. उनके पास रक्षा मंत्रालय और सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का कार्यभार भी रह चुका है.
चार महीनों तक मंत्रालय से दूर रहने के बावजूद वह सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव थे और लगातार आर्थिक एवं गैर आर्थिक मुद्दों पर ब्लॉग लिख रहे थे. इस दौरान उन्होंने इमरजेंसी, एनआरसी, संसद में अविश्वास प्रस्ताव, राफेल डील और जीएसटी जैसे कई बड़े मुद्दों पर ब्लॉग लिखे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *